बहन की कामना का पर्व भाई दूज

मुंबई - भाई दूज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाए जाने वाला हिन्दू धर्म का पर्व है जिसे यम द्वितीया भी कहते हैं। भाई दूज में हर बहन रोली एवं अक्षत से अपने भाई का तिलक कर उसके उज्ज्वल भविष्य के लिए आशीष देती हैं। इस त्योहार के पीछे एक किंवदंती यह है कि यम देवता ने अपनी बहन यमी को इसी दिन दर्शन दिया था, जो बहुत समय से उससे मिलने के लिए व्याकुल थी। अपने घर में भाई यम के आगमन पर यमुना ने प्रफुल्लित मन से उसकी आवभगत की। यम ने प्रसन्न होकर उसे वरदान दिया। भाई दूज भाई के प्रति बहन के स्नेह को अभिव्यक्त करता है एवं बहनें अपने भाई की खुशहाली के लिए कामना करती हैं। एक बात दीपावली के दीप के बारे में खास है कि दीप मिटते अंधकार की अवधारणा है। दीपावली के दीप आंतरिक ऊर्जा का घोतक हैं। लक्ष्मी नोट के बंडल का नाम नहीं बल्कि लोगों के आंतरिक गुणों का नाम है।

Loading Comments