मुंबई-दिल्ली रहने लायक नहीं, जानें क्यों?

दिल्ली की रैंकिंग पिछले साल 112 थी जो इस बार गिर कर 118 पर आ गयी, जबकि मुंबई इस लिस्ट में पिछले 117वें नंबर था, इस साल इसे 119वें नंबर पर रखा गया है।

SHARE

भारत के दो प्रमुख मेट्रो शहर मुंबई और दिल्ली अब रहने के लायक नहीं है, रहने के लायक शहर की लिस्ट में यह दोनों शहर दो पायदन खिसक कर नीचे आ गये हैं। बुधवार को Economist Intelligence Unit ने 2019 के Global Liveability Index ने इस लिस्ट को जारी किया, जिसमें दुनिया के तमाम शहर को रैंकिंग दी गयी थी। इस लिस्ट में सबसे ऊपर ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना और ऑस्ट्रेलिया के शहर मेलबर्न सबसे ऊपर हैं।

Economist Intelligence Unit हर साल दुनिया भर के शहरों का सर्वे करता है और कौन सा शहर रहने लायक है, इसकी रेटिंग करता है. शहरों को रेटिंग उनके स्थिरता, संस्कृति और पर्यावरण, हेल्थकेयर, इंफ्रास्ट्रक्चर और एजुकेशन के स्तर को देख कर दी जाती है।

आपको बता दें कि दिल्ली की रैंकिंग पिछले साल 112 थी जो इस बार गिर कर 118 पर आ गयी, जबकि मुंबई इस लिस्ट में पिछले 117वें नंबर था, इस साल इसे 119वें नंबर पर रखा गया है।

EIU के अनुसार दिल्ली की रैंकिंग यहां क्राइम बढ़ने और खराब एयर क्वालिटी के साथ दुनिया भर के सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल होने की वजह से गिरी है। जबकि मुंबई के कल्चर कैटेगरी में गिरावट आई है।

हालांकि एशिया के और भी कुछ शहर हैं जिनके रेटिंग में गिरावट दर्ज की गयी है। श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में ईस्टर संडे बम ब्लास्ट की वजह से छह पायदान खिसक गया है।

इस लिस्ट में सबसे नीचे के 10 शहरों में बांग्लादेश की राजधानी ढाका और पाकिस्तानी शहर कराची शामिल हैं। ढाका में स्थिरता है लेकिन हेल्थकेयर स्ट्रक्चर बहुत ही खराब है। कराची एजुकेशन और इंफ्रास्ट्रक्चर पर मजबूत है लेकिन यहां क्राइम और गैंग वॉयलेंस बहुत ज्यादा है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें