पंकजा मुंडे के पार्टी छोड़ कर जाने पर बीजेपी ने किया इनकार लेकिन पंकजा के लक्षण बदले-बदले से

पंकजा ने अब अपने ट्विटर हैंडल से पार्टी का नाम हटा दिया है। उसकी जगह अब उन्होंने RT's r not endorsements लिखा है।

SHARE

भाजपा नेता पंकजा मुंडे (Pankaja munde) ने अब बीजेपी (bhartiy janta party) को एक और झटका देते हुए उन आशंकाओं को बल दिया है जिसमें उनके बीजेपी छोड़ने की अटकलें लगाई जा रही थीं। पंकजा ने अब अपने ट्विटर (twitter) हैंडल से पार्टी का नाम हटा दिया है। उसकी जगह अब उन्होंने RT's r not endorsements लिखा है। इसके पहले उन्होंने अपनी फेसबुक (facebook) पोस्ट में लिखा था कि वह आठ से 10 दिन में यह तय करेंगी कि उन्हें कौन से रास्ते जाना है। इस पोस्ट के बाद से ही राजनीतिक गलियारों में कयास लगने लगे कि आने वाले दिनों में वे बीजेपी छोड़ने जैसा कोई बड़ा कदम उठा सकती हैं।

फेसबुक पोस्ट से लगी थीं अटकलें
पंकजा मुंडे ने सोमवार को अपने ट्विटर बायो से पार्टी का नाम हटाते  हुए सिर्फ RT's r not endorsements लिखा। इसके पहले उन्होंने मराठी भाषा में फेसबुक पर एक एक भावनात्मक पोस्ट शेयर किया था। जिसमें उन्होंने लिखा था कि,  'आप मुझसे समय के लिए पूछ रहे हैं ... मैं आपको समय देने जा रही हूं। ये 8-10 दिन मुझे खुद से थोड़ा संवाद करने के लिए समय चाहिए। आगे क्या करना है? किस रास्ते से जाना है? हम अपने लोगों को क्या दे सकते हैं? आपकी शक्ति क्या है? लोग क्या उम्मीद करते हैं? मैं इन सभी चीजों के साथ उपस्थिति रहूंगी।' 

साथ ही उन्होंने रविवार को अपने समर्थकों से 12 दिसंबर को बीड में होने वाली रैली के लिए आने का आग्रह किया, जिस दिन उनके दिवंगत पिता और पूर्व केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे की जयंती भी है।

यही नहीं उन्होंने यह भी कहा है कि हाल ही में हुए महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों (assembly election) में अपनी हार के बाद उनसे कई समर्थकों मिलना चाहते थे, लेकिन राज्य की स्थिति के कारण ऐसा नहीं कर सकीं। उन्होंने कहा कि बदले हुए राजनीतिक परिदृश्य में, भविष्य की कार्रवाई का फैसला किया जाना चाहिए।

पंकजा कहीं नहीं जाएंगी-बीजेपी 
पंकजा के बीजेपी छोड़ने की बात पर बीजेपी ने इनकार किया है। पार्टी के कई नेताओं ने इस बात को अफवाह और निराधार बताया है।

बीजेपी नेता और सांसद पूनम महाजन में दावा किया है कि पंकजा कहीं नहीं जाएंगी।

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने कहा कि, यह एक अफवाह है इसमें कोई दम नहीं है। गोपीनाथ मुंडे की बीजेपी में अहम भूमिका रही है।. पंकजा बीजेपी में ही रहेंगी वे पार्टी छोड़ कर कहीं नहीं जा रही हैं। पंकजा पार्टी में कल भी थीं, आज भी हैं और कल भी रहेंगी।

पूर्व शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े ने कहा कि, पंकजा से मेरी व्यक्तिगत बात हुई, उनकी फेसबुक पोस्ट का गलत अर्थ निकाला जा रहा है। उस पोस्ट से उन्होंने अपने समर्थकों को रैली में आने का निमंत्रण दिया है। मुंडे और ठाकरे परिवार करीब जरुर हैं लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि वे पार्टी छोड़ रही हैं। हम सभी 12 तारीख की रैली में जा रहे हैं।

राउत का दावा
इसके पहले शिव सेना सांसद संजय राउत ने यह कह कर सनसनी मचा दी थी कि भाजपा के कई बड़े नेता शिव सेना के संपर्क में हैं। यही नहीं जब पत्रकारों ने संजय राउत से पंकजा मुंडे द्वारा शिव सेना ज्वाइन करने का प्रश्न पूछा गया तो उन्होंने कहा कि, उनका पार्टी में स्वागत है जिसके बाद से पंकजा के शिव सेना में जाने की अटकलें लगने लगी थीं।

बड़े नेताओं से नाराज पंकजा?
बताया जा रहा है कि पंकजा महाराष्ट्र के शीर्ष नेताओं से नाराज हैं खास कर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से। क्योंकि पंकजा के समर्थकों का मानना है कि पंकजा को विधानसभा चुनाव में फडणवीस ने जान बुझ कर हरवाया है। पंकजा मुंडे को इस बार विधानसभा चुनाव में अपने चचेरे भाई और एनसीपी उम्मीदवार धनंजय मुंडे के हाथों हार का सामना करना पड़ा। साथ ही धनंजय मुंडे और देवेंद्र फडणवीस की करीबी जगजाहिर है. विपक्ष के नेता चुने जाने के बाद धनंजय मुंडे ने देवेंद्र फडणवीस को व्यक्तिगत रूप से मिल कर बधाई दी थी।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें