Advertisement

'ये मंत्री हैं या लड़ने वाली सास'

बीजेपी नेता आशीष शेलार (BJP leader ashish shelar) ने एक बार फिर से राज्य की उद्धव सरकार (uddhav government) पर निशाना साधा है। उन्होंने सरकार के मंत्रियों की तुलना लड़ने वाली सास से की है।

'ये मंत्री हैं या लड़ने वाली सास'
SHARES


बीजेपी नेता आशीष शेलार (BJP leader ashish shelar) ने एक बार फिर से राज्य की उद्धव सरकार (uddhav government) पर निशाना साधा है। उन्होंने सरकार के मंत्रियों की तुलना लड़ने वाली सास से की है। शेलार ने कहा, गणेशोत्सव के कुछ ही दिन शेष हैं, राज्य सरकार ने कर्मचारियों को कोंकण जाने के लिए एसटी बस की सुविधा प्रदान की है। तो कुछ यात्री निजी वाहनों से जा रहे हैं। लेकिन इस यात्रा के दौरान यात्रियों को मुश्किल परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है, जैसे कि यातायात की भीड़, बारिश, गड्ढे और अन्य समस्याएं। जहां केंद्र सरकार गणेशोत्सव के लिए ट्रेन की सुविधा दे रखी है तो वहीं राज्य सरकार ने इस मुद्दे को दबाए रखा। साथ ही वापसी यात्रा के लिए ट्रेन सेवा प्रदान करने के बजाय महाराष्ट्र के ये मंत्री किसी झगड़ा सास की तरह तू-तू, मैं-मैं कर रहे हैं।

शेलार (ashish shelar) ने आगे कहा, ठाकरे सरकार (uddhav thackeray government) ने हमारे कोंकण जाने वाले गणेश भक्तों को यह सुविधा क्यों नहीं प्रदान की? सड़कों पर भारी बारिश और गड्ढों के कारण लोग परेशान हो रहे हैं।

ठाकरे सरकार आखिर किस बात पर कोंकणी लोगों पर अपना गुस्सा उतार रही है?  हमने बार-बार कहा, ट्रेन तैयार है लेकिन बात नहीं सुनी गई, एसटी ने समय पर नहीं पहुंच पाती। यात्रियों को अत्यधिक किराया देना पड़ रहा है। अब, वापसी की यात्रा के लिए ट्रेनें उपलब्ध कराने के बजाय, ये मंत्री बैठ कर झगड़ालू सास की तरह तू-तू-मैं-मैं कर रहे हैं।

शेलार के मुताबिक, कोई ठोस निर्णय नहीं है, कोई योजना नहीं है, कोई समन्वय नहीं है, केवल सरकार दूसरों पर दोष देकर अपनी असफलताओं को ढंकने की कोशिश करती है। रेलवे की तत्परता के बावजूद राज्य सरकार द्वारा ट्रेनों को शुरू नहीं किया गया। आशीष शेलार ने सरकार पर कर्मचारियों को परेशान करने का भी आरोप लगाया।

शासन के निर्देशानुसार 13 से 21 अगस्त के बीच कोंकण जाने वाले कर्मचारियों के लिए आरक्षण के लिए एसटी बसें उपलब्ध कराई गई हैं।  लेकिन एसटी ने इसके लिए कुछ शर्तें तय की थीं जैसे, यात्रा से पहले यात्रियों को आरवी-पीसीआर स्वाब टेस्ट (swab test) से गुजरना अनिवार्य होगा और रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही यात्री यात्रा कर सकेगा। इसके लिए, मुंबई, ठाणे और पालघर डिवीजनों के प्रमुख बस स्टैंडों पर बसें उपलब्ध कराई गई हैं।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement