देश को इवेंट की नहीं, इलाज की जरूरत: कांग्रेस


देश को इवेंट की नहीं, इलाज की जरूरत: कांग्रेस
SHARES


महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोराट ने पीएम नरेंद्र मोदी के उस अपील पर तंज कसा है जिसमें पीएम मोदी ने सभी देशवासियों को 5 अप्रैल यानी रविवार रात 9 बजे 9 मिनट तक अपने घर की लाइटें बंद करके घर की बालकनी में या दरवाजे पर दिया, मोमबत्ती, टॉर्च या मोबाइल टॉर्च जला कर कोरोना वायरस से लड़ने की प्रतीकात्मक एकजुटता दिखाने को कहा है।

मोदी की इस अपील पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बालासाहेब थोराट ने कहा कि, इस तरह के संकट के दौरान देश में इवेंट की नहीं बल्कि इलाज की जरूरत है।

थोरात ने कहा, अब देश में थाली के बाद दीपक जलाने का कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है।  कोरोना संकट के मद्देनजर, देश को अस्पतालों, वेंटिलेटर, प्रयोगशालाओं की आवश्यकता है, इवेंट की नहीं।  

उन्होंने आगे कहा, श्रमिकों और मजदूरों को दो समय के भोजन की आवश्यकता होती है।  इसलिए, प्रधान मंत्री को इस प्रचार स्टंट को रोकने के लिए कुछ ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है।

थोरात यही नहीं रुके, उन्होंने कहा, इस समय देश में कोरोना का संकट (Covid-19) छाया हुआ है। ऐसी स्थिति में प्रधानमंत्री ने पहले ताली बजवाई और अब दिए जलाने के लिए कह रहे हैं। क्या वे कभी प्रधानमंत्री के रूप में काम करेंगे? आप कभी प्रधानमंत्री के रूप में फैसला लेंगे? इस 

समय की जैसी स्थिति है उसे देखते हुए आवश्यक चिकित्सा उपकरण प्रदान करना, राज्यों की मदद करना, नागरिकों को प्रोत्साहित करना चाहिए। लेकिन उसे न करके ये लोगों से ताली बजवा रहे हैं, दिए जलवा रहे हैं। क्या यह सब प्रधानमंत्री का काम है?  थोरट ने कहा, पीएम को और भी अधिक गंभीर होने की जरूरत है।

आपको बता दें कि शुक्रवार सुबह देश को संबोधित करते हुए, प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि भारत में जनता को भगवान का रूप माना जाता है और मैं लोगों से कोरोना के कारण फैलेे इस अंधकार से बाहर निकलने की अपील करते हुए कुछ मांग रहा हूँ। इस रविवार 5 अप्रैल को रात 9 बजे आपके 9 

मिनट मांग रहा हूँ। आप लोग अपने घर की सभी लाइटें बंद करें, और बालकनी, दरवाजे में दीपक लगाएं या मोमबत्ती, बैटरी या मोबाइल टॉर्च जलाएं।  “कोरोना द्वारा फैलाए गए अंधेरे में, हम लगातार सकारात्मकता और प्रकाश की ओर जाना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, हालांकि, ऐसा करते समय कर्फ्यू के उल्लंघन की गलती न करें।  आप सामाजिक डिस्टेंस का पालन करें। किसी को साथ आने की कोई जरूरत नहीं, भीड़ एकत्रित करने की कोई जरूरत नही। यह अकेले का काम है, अकेले ही रहिए।  मोदी ने कहा कि कोरोना की श्रृंखला को तोड़ने का यह एकमात्र तरीका है।


संबंधित विषय