‘क्रॉस आइलैंड पर बने शिवाजी स्मारक’

 Mumbai
‘क्रॉस आइलैंड पर बने शिवाजी स्मारक’

मुंबई – अरब सागर में बनने वाले शिवाजी स्मारक की तैयारी के लिए जहां सरकार हर संभव प्रयास कर रही है तो वहीं कोली समाज और पर्यावरण प्रेमी इस स्मारक का विरोध भी कर रहे हैं। इसी कड़ी में मुंबई सिटीजन फोरम ने स्मारक के लिए प्रस्तावित जगह का विरोध कर रही है। इस फोरम का कहना है कि प्रस्तावित जगह पर स्मारक बनाने से तकनीकी और आर्थिक दृष्टि से कठिन ही नहीं बल्कि असंभव है। अब फोरम मांग कर रही है कि इस प्रस्तावित जगह पर स्मारक का निर्माण न हो बल्कि अन्य कहीं और हो।

smarak.jpg

मुंबई सिटीजन फोरम के अध्यक्ष और सेवानिवृत्त वाइस एडमिरल आईसी राव ने इस सम्बन्ध में राज्य सरकार को पत्र लिखा। पत्र में स्मारक के लिए तैयार किये गये खाके पर सवाल उठाया गया था। पत्र के अनुसार यह स्मारक राजभवन से 1.2 किमी दूर एचटुओ जेट्टी, गिरगांव से 3.60 किमी की अंतर पर बनाया जाएगा। इस स्मारक को बनाने में जो पानी के ऊपर जो 15.96 हेक्टेयर की ठोस जमीन तैयार की जायेगी उसके लिए 10 लाख टन पत्थर और सात लाख टन बालू की जरुरत होगी, मात्र इसी के लिए ही एक हजार करोड़ रूपये खर्च हो जाएंगे। पत्र में आगे कहा गया है कि इतना अधिक पैसा खर्च करने से अच्छा है कि ‘भाउचा धक्का’ के क्रॉस आईलैंड पर स्मारक का निर्माण हो क्योंकि वहां आधार रखने के लिए जमीन पहले से ही उपलब्ध है।

इस पत्र में राव ने आगे लिखा है कि प्रस्तावित जगह पर स्मारक का निर्माण असंभव है। पत्र के अनुसार करोड़ों रूपये खर्च करने के बाद जब स्मारक बन कर तैयार हो जाएगा तो इसे देखने के लिए पर्यटक आयेंगे, अगर क्रॉस आइलैंड पर स्मारक बनता है तो पर्यटकों को क्रॉस आइलैंड का भी लुत्फ़ उठा सकेंगे।

राव ने कहा जब उन्होंने इस बात को स्मारक समिति के अध्यक्ष विनायक मेटे के सामने रखा तो मेटे ने इसे मानने से इनकार कर दिया। अब वे मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस से मिलेंगे।

Loading Comments