परियोजनाओं की भेंट चढ़ते खुले मैदान

प्रभादेवी - मुंबई शहर में बढती जनसंख्या के कारण वैसे भी खुले मैदान नहीं रहे गये हैं और जो बचे भी थे उनपर बिल्डरों ने अपना कब्जा कर लिया है। लेकिन अब बाकी इक्के दुक्के बचे खुले मैदान सरकार की योजनाओं की भेंट चढ़ते जा रहे हैं। प्रभादेवी में स्थित मैदान भी इनमे से एक है जो योजना की भेंट चढ़ गया है। मेट्रो-3 परियोजना के तहत प्रभादेवी के नेदुला मैदान और साने गुरूजी मैदान को कुछ एक नहीं बल्कि पांच सालों के लिए बंद कर दिया गया है जिससे यहां के स्थानीय निवासियों में रोष व्याप्त है। स्थानीय निवासी डॉ. राकेश का कहना है कि मैदानों में बच्चे खेलते थे। बुजुर्ग सुबह शाम यहां घूमते और बैठने के लिए आते थे, लोग मोर्निंग और इवनिंग वाक के लिए आते थे। अब मैदानों के बंद होने के कारण अब लोग कहां जाएं।

Loading Comments