सरकार बनाने के लिए एक बार फिर से दिल्ली में हलचल तेज।

खबरों के मुाताबिक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शिवसेना को समर्थन देने के लिए मंजूरी दे दी है।

SHARE

राज्य में सरकार बनाने के लिए एक बार फिर से दिल्ली में हलचल तेज हो गई है।  शिवसेना को समर्थन देने के लिए लिए कांग्रेस और एनसीपी में बैठको का दौर लगातार जारी है।  दिल्ली में आज भी राज्य कांग्रेस के कड़ी बड़े नेता पहुंचे हुए है। खबरों के मुाताबिक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शिवसेना को समर्थन देने के लिए मंजूरी दे दी है।  एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने पहले ही साफ कर दिया था की बिना कांग्रेस के समर्थन के राज्य में वैकल्पिक सरकार नहीं बन सकती । जिसके बाद से कांग्रेस और एनसीपी के साथ साथ शिवसेना के नेताओं की बैठक भी लगातार जारी रही। 

एक दिसंबर से पहले सरकार का गठन

शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने गुरुवार को प्रेस वार्ता में कहा कि एक दिसंबर से पहले सरकार का गठन हो जाएगा। वहीं, सरकार बनाने की प्रक्रिया की शुरुआत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि तीनों पार्टियां मुंबई में बैठक भी करेंगीइससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने बुधवार को विश्वास जताया था कि राज्य में अगले महीने तक उनकी पार्टी के नेतृत्व में सरकार बनेगी। उन्होंने कहा था कि राज्य में सरकार बनने की तस्वीर अगले दो दिनों में स्पष्ट हो जाएगी।

महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन

गौरतलब हो भाजपा के साथ मुख्‍यमंत्री पद को लेकर रार के बाद शिवसेना सरकार गठन को लेकर कांग्रेस और एनसीपी से समर्थन का आग्रह किया है। तीनों पार्टियों के बीच कई दिनों से बैठकों का दौर जारी है। फिलहाल महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन लागू है।

यह भी पढ़े- राष्ट्रपति शासन के बाद भी नही रुकेगा विकास कार्य- राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें