विश्वनाथ महाडेश्वर के मेयर बनते ही...

 Mumbai
विश्वनाथ महाडेश्वर के मेयर बनते ही...

भले ही विश्वनाथ महाडेश्वर उन खुशनसीब नगरसेवकों में से एक हो जिन्हें महापौर बनने का मौका मिला, लेकिन महापौर बनने के बाद उनके साथ कुछ अच्छा होता नहीं दिख रहा। शिवाजी पार्क में अपने आधिकारिक बंगले को खोने के बाद अब उन्होंने अपने आधिकारिक वाहन की लाल बत्ती भी खो दी है।

केंद्र सरकार के फैसले के बाद वीआईपी कल्चर खत्म करने के लिए वाहनों के ऊपर लाल बत्ती के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने के फैसले के बाद, राज्य के मंत्रियों ने तुरंत अपने आधिकारिक वाहनों से लाल बत्ती हटा दी। महापौर ने जोर देकर कहा है कि जब तक राज्य सरकार इस संबंध में अधिसूचना जारी नहीं करेगी, तब तक वे अपने आधिकारिक वाहन के ऊपर लाल बत्ती का इस्तेमाल करेंगे। बेशक, सरकार अधिसूचना जारी करेगी और फिर महापौर को सरकारी नियमों का पालन करना होगा। बीएमसी में केवल महापौर और बीएमसी आयुक्त लाल बत्ती का इस्तेमाल करने के हकदार हैं। लेकिन सरकार की अधिसूचना के बाद इन दोनों ही पदों पर बैठे मान्यवरों को अपने आधिकारिक वाहनों से लाल बत्ती हटानी पड़ेगी। महापौर के आधिकारिक बंगले को बालासाहेब ठाकरे के स्मारक के लिए लिया गया है। यह बंगला उन्हें अगले कुछ महीनों में खाली करना होगा।

Loading Comments