अवैध बांग्लादेशियों के खिलाफ मनसे ने शुरू किया आंदोलन, बस्तियों में कर रहे हैं तलाश

मनसे कार्यकर्ता लोगों के आईकार्ड, आधार कार्ड (aadhar card) और राशन कार्ड (ration card) भी चेक कर रहे हैं। इस काम में वे पुलिस की भी सहायता ले रहे हैं।

SHARE

मुंबई (mumbai) में अवैध रूप से रहने वाले बांग्लादेशी नागरिकों (Bangladeshi citizen) के खिलाफ महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना यानी मनसे (MNS) तलाशी अभियान चला रही है। मुंबई सहित ठाणे (THANE) में स्थित कई स्लम इलाकों में जाकर मनसे के कई कार्यकर्ता बांग्लादेशी नागरिकों को तलाश कर रहे हैं। वे स्थानीय लोगों के आईकार्ड, आधार कार्ड (aadhar card) और राशन कार्ड (ration card) भी चेक कर रहे हैं। इस काम में वे पुलिस की भी सहायता ले रहे हैं।

मुंबई के बोरीवली (boriwali) पूर्व स्थित चिकुवाड़ी इलाके में बनी बस्ती में गुरूवार शाम को करीब एक दर्जन मनसे कार्यकर्ता पहुंचे और उन्होंने वहां पर रहने वाले लोगों के आईकार्ड, आधार कार्ड और राशन कार्ड मांग कर चेक करने लगे।इस दौरान स्थानीय पुलिस की टीम भी उनके साथ मौजूद थी।

यही नहीं ठाणे में भी मनसे के कार्यकर्ता इस काम को अंजाम दे रहे हैं। ठाणे में मनसे के अध्यक्ष अविनाश जाधव (avinash jadhav) की अगुवाई में कई मनसे कार्यकर्ताओं ने भी कई बस्तियों में जाकर वहां रहने वाले बांग्लादेशियों को ढूंढ निकाला। इनके पास से आधार कार्ड, राशन कार्ड भी मिला। यही नहीं इनके पास बांग्लादेशी पासपोर्ट भी मिला। 

मनसे के नेताओं का दावा है कि इस इलाके में अवैध ढंग से कई बांग्लादेशी रह रहे हैं। वे अपना तलाशी अभियान इसी तरह से जारी रखेंगे और बांग्लादेशी नागरिकों की तलाशी करेंगे।

इसके पहले पुणे में पार्टी की ओर से पोस्टर लगाए गए थे। इनमें लिखा था, 'बांग्लादेशी निकलो वरना मनसे स्टाइल से निकाले जाओगे।' 

इस तलाशी अभियान में मुंबई में 5 बांग्लादेशी मिले, जिन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। अभी कुछ दिन पहले भी पुलिस ने विरार इलाके से कई बंगलादेशी परिवार वालों को गिरफ्तार किया।

आपको बता दें कि भारत में अवैध रूप से रहने वाले बांग्लादेशी और पाकिस्तानी नागरिकों के खिलाफ मनसे ने रविवार को रैली निकाल कर अपना विरोध दर्ज कराया था. मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने कहा था कि, देश से बांग्लादेशी और पाकिस्तानी नागरिकों को बाहर निकालना चाहिए।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें