Advertisement

मुंबई : कुलाबा में बाल ठाकरे की प्रतिमा होगी स्थापित, स्थानीय लोगों ने जताया विरोध

BMC के अधिकारियों ने मुंबई पुरातत्व संरक्षण समिति और अन्य प्रशासनिक विभागों से सभी अनुमति प्राप्त कर ली है। इसलिए 23 जनवरी को प्रतिमा का अनावरण किया जाएगा।

मुंबई : कुलाबा में बाल ठाकरे की प्रतिमा होगी स्थापित, स्थानीय लोगों ने जताया विरोध
SHARES

शिवसेना (shiv sena) प्रमुख बालासाहेब ठाकरे (babasaheb thackeray) का जन्मदिन 23 जनवरी को है। इस अवसर पर, मुंबई के कुलाबा (colaba) क्षेत्र में डॉक्टर श्यामाप्रसाद मुखर्जी चौक पर बालासाहेब ठाकरे की 9 फीट ऊंची पूर्ण आकार की प्रतिमा स्थापित की गई है। प्रतिमा को अभी ढंक दिया गया है क्योंकि कुछ काम बाकी है, इस प्रतिमा का अनावरण 23 जनवरी को होना है। लेकिन स्थानीय लोगों ने इस स्थान पर प्रतिमा के निर्माण का विरोध करना शुरू कर दिया है।

वाइस एडमिरल (सेवानिवृत्त) और आपली मुंबई संस्था के अध्यक्ष सी. राव ने कहा, 'साल 2019 में भी निवासियों ने विरोध किया था। 2013 में सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश के अनुसार, सार्वजनिक सड़कों पर मूर्तियों को स्थापित नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा, उद्घाटन के दिन सड़क को बंद करना होगा। इससे ट्रैफिक की समस्या पैदा होगी। हमारा विरोध राजनीतिक नहीं है बल्कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से है। एक बार मूर्ति को स्थापित करने के बाद, बहुत से लोग वहां सेल्फी (selfie) लेने के लिए आएंगे।'

इस मुद्दे पर शिवसेना के स्थानीय पार्षद यशवंत जाधव ने कहा, “बालासाहेब ठाकरे ने मुंबई के लिए महान बलिदान दिए हैं। पहले चुने गए स्थान के साथ कुछ समस्या थी। लेकिन वर्तमान में जिस स्थान को सेलेक्ट किया गया है वह बहुत बड़ा है। इसलिए लोग वहां आसानी से खड़े हो सकते हैं। प्रतिमा के लिए सभी आवश्यक अनुमति प्राप्त कर ली गई हैं। मुंबईकर प्रतिमा के विरोध में नहीं हैं। जो लोग विरोध कर रहे हैं वे राजनीतिक उद्देश्यों के लिए सब कुछ कर रहे हैं।”

BMC के अधिकारियों ने मुंबई पुरातत्व संरक्षण समिति और अन्य प्रशासनिक विभागों से सभी अनुमति प्राप्त कर ली है। इसलिए 23 जनवरी को प्रतिमा का अनावरण किया जाएगा।

प्रसिद्ध मूर्तिकार शशिकांत फड़के ने इस प्रतिमा का निर्माण किया है। इस समय इस मूर्ति को डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी चौक पर स्थापित किया गया है। इस प्रतिमा के नीचे लिखा है, 'यहां आए हुए सभी मेरे हिन्दू भाइयों, बहनों और माताओं'।

बालासाहेब ठाकरे अक्सर अपने भाषण की शुरुआत इसी वाक्य से करते थे। यही नहीं बालासाहेब अपने भाषण को जिस वाक्य से खत्म करते थे वो 'जय हिंद जय महाराष्ट्र' भी इसी मूर्ति के नीचे लिखा गया है।

23 तारीख को होने वाले कार्यक्रम के लिए सभी दलों के नेताओं को आमंत्रित किया गया है। यह निमंत्रण नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फड़नवीस (devendra fadnavis) के साथ-साथ मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे (raj thackeray) को भी दिया गया है।  मुंबई की मेयर किशोरी पेडणेकर (Mayor kishori pednekar) खुद राज ठाकरे को आमंत्रित करने के लिए उनके घर 'कृष्णकुंज' (krishnakunj) गयी थीं।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
Advertisement
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें