बीजेपी के आखिरी लिस्ट में भी नहीं आया नाम , इन चार नेताओं को लगा धक्का!

विनोद तावड़े, राज पुरोहीत , प्रकाश मेहता और एकनाथ खड़से को बीजेपी की अंतिम लिस्ट में भी जगह नहीं मिली, हालांकी खड़से के लिए रहत की बात रही की उनकी बेटी को बीजेपी की ओर से टिकट मिल गया।

SHARE

शुक्रवार को बीजेपी ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की आखिरी लिस्ट भी जारी कर दी । इस लिस्ट में राज्य के 4 बड़े नेताओं के नाम गायब रहे।  विनोद तावड़े, राज पुरोहीत , प्रकाश मेहता और एकनाथ खड़से को बीजेपी की अंतिम लिस्ट में भी जगह नहीं मिली, हालांकी खड़से के लिए रहत की बात रही की उनकी बेटी को बीजेपी की ओर से टिकट मिल गया।  

अपनी पहली सूची में, भाजपा ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस और पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल सहित 125 नामों को सूचीबद्ध किया है, जो 2019 में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव लड़ेंगे जो 21 अक्टूबर को होने वाले हैं। दूसरी सूची में, भाजपा ने 14 नामों को जारी किया, इसके बाद तीसरे में चार नाम और चौथे उम्मीदवारों की सूची में सात नामों को शामिल किया गया। हालांकि, हाई-प्रोफाइल नेताओं के नाम तावड़े, खड़से, मेहता और पुरोहित के नाम इस सूची से गायब थे।

एकनाथ खडसे
बीजेपी ने शुक्रवार सुबह एकनाथ खडसे की बेटी रोहिणी खडसे को आगामी चुनाव के लिए मुक्ताईनगर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए नामित किया। खड़से के लिए ये राहत की बात रही।  एकनाथ खडसे ने देवेंद्र फड़नवीस सरकार में महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री के रूप में कार्य किया। हालांकि, कथित एमआईडीसी भूमि घोटाले में नाम आने के बाद खडसे को राज्य सरकार में अपने कैबिनेट पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

विनोद तावड़े
राज्य के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य करने वाले विनोद तावड़े को भाजपा ने नजरअंदाज कर दिया। तावड़े बोरीवली विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के विधायक हैं और पार्टी ने यहा से  टिकट सुनील राणे को दिया है। मीडिया से बात करते हुएतावड़े ने कहा कि उन्हें कोई नाराजगी नहीं हैजो भी हो मै पार्टी का निर्णय स्विकार करता हूं, मेंरे लिए   राष्ट्र पहले, फिर पार्टी और स्वयं अंतिम आता है।  राजनीतिक गलियारों में, इस बात की चर्चा है कि तावड़े और देवेंद्र फड़नवीस के रिश्ते अच्छे नहीं है।  जिसके कारण उन्हे टिकट से हाथ धोना पड़ा


प्रकाश मेहता
प्रकाश मेहता को बीजेपी के वरिष्ठ नेता के रुप में जाना जाता है। विधायक के रुप में यह उनका 6ठां कार्यकाल था।  मेहता घाटकोपर पूर्व से भाजपा के विधायक हैं और देवेंद्र फड़नवीस के नेतृत्व वाली सरकार में आवास विभाग के मंत्री थे। हालांकि, उनका टिकट भाजपा पार्षद पराग शाह को दिया गया था। 

राज पुरोहित
दूसरी ओरराज पुरोहित का टिकट राहुल नार्वेकर को दिया गया। इससे पहले 2015 में, पुरोहित एक स्टिंग में दिखाए जाने के बाद मुश्किल में पड़ गए थे जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के काम करने के तरीके के बारे में टिप्पणी की थी।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें