Advertisement

एल्गार परिषद् मामले में नाराज शरद पवार मंत्रियों के साथ आज करेंगे बैठक

बताया जा रहा है कि इस बैठक में एनसीपी इस बात चर्चा कर सकती है कि, आगे क्या करना है या फिर टकराव को टाल भी सकती है, लेकिन टकराव के टलने के आसार कम ही नजर आ रहे हैं।

एल्गार परिषद् मामले में नाराज शरद पवार मंत्रियों के साथ आज करेंगे बैठक
SHARES

महाराष्ट्रमें सत्ताधारी पार्टी महा विकास आघाड़ी (maha vikas aghadi) में इस समय सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। भीमा कोरेगांव हिंसा (bhima koregaon case) की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को सौंपने के बाद से ही शिवसेना (SHIV SENA) का राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) और कांग्रेस (congress) के बीच तनाव बढ़ता ही जा रहा है इस फैसले से नाराज एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार (sharad pawar) ने सोमवार को यानि आज अपनी  पार्टी के सभी 16 मंत्रियों की बैठक बुलाई है अब इस बैठक के बाद सामने क्या निकल आएगा इस पर सब की निगाहें लगी हुई हैं

बताया जा रहा है कि इस बैठक में एनसीपी इस बात चर्चा कर सकती है कि, आगे क्या करना है या फिर टकराव को टाल भी सकती है, लेकिन टकराव के टलने के आसार कम ही नजर आ रहे हैं ऐसा इसीलिए क्योंकि जब से NIA को भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच सौंपी गयी है तभी से ही शरद पवार लगातार आक्रामक रुख अख्तियार किये हुए हैं

यही नहीं कोल्हापुर (kolhapur) में एक रैली के दौरान पवार ने एक रैली के दौरान मोदी सरकार और राज्य सरकार दोनों पर निशाना साधते हुए कहा कि, भीमा कोरेगांव मामले में महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra government) कुछ एक्शन लेने वाली थी, इसलिए केंद्र ने एल्गार परिषद (Elgar Parishad) के मामले को अपने हाथ में ले लिया कानून व्यवस्था पूरी तरह से राज्य के हाथ में होनी चाहिए, लेकिन हैरानी वाली बात है कि राज्य सरकार ने केंद्र के इस फैसले का पुरजोर विरोध नहीं किया

पढ़ें: उद्धव ठाकरे के बाद अब कोर्ट ने भी भीमा-कोरगांव हिंसा की जांच NIA को किया स्थानांतरित


इसके पहले महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख (home minister anil deshmukh ) ने जानकारी देते हुए कहा था कि, 'इस मुद्दे को लेकर मैंने सीएम उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) से मुलाकत की। उन्होंने कहा, एनआईए (NIA) जांच के मुद्दे पर सीएम ने मेरे फैसले को बदलते हुए इसकी जांच एनआईए को सौंपने को कहा है। उनके पास मेरे फैसले को पलटने का आधिकार है।'

आपको बता दें कि एल्गार परिषद केस की जांच के लिए महाराष्ट्र सरकार एसआईटी(SIT) गठन करना चाहती थी, लेकिन पुणे की एक कोर्ट के आदेश पर महाराष्ट्र सरकार ने केस की जांच एनआईए को दे दी है फिर भी महाराष्ट्र सरकार चाहती है कि इस मामले के लिए एसआईटी का गठन किया जाए

 गौरतलब है कि एल्गार परिषद केस के 31 दिसंबर 2017 को पुणे में आयोजित होने वाली भीमा कोरेगांव में कुछ लोगों पर भड़काऊ भाषण देने का आरोप था। इस भाषण के अगले ही दिन हिंसा भड़क उठी थी, पुणे पुलिस का दावा है कि एल्गार परिषद कार्यक्रम को माओवादियों का समर्थन हासिल था, इस मामले में पुलिस ने 9 लोगों को गिरफ्तार किया था

 यह कोई पहली बात नहीं है कि शिवसेना और एनसीपी के बीच खींचतान बढ़ गई हो, इसके पहले भी राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) मामला हो या, सावरकर मुद्दा या फिर अयोध्या (Ayodhya) जाना, जैसे कई मुद्दों को लेकर एनसीपी और कांग्रेस, शिव सेना से असहज हो चुकी है 

पढ़ें: भीमा कोरेगांव की हो SIT जांच – शरद पवार

संबंधित विषय