शिवसेना से की दुकानों के बाहर लगे अवैध ‘मैनीक्वीन’ को हटाने की मांग

बीएमसी की लॉ कमिटी चेयरमैन और शिवसेना नगरसेवक शीतल महात्रे ने बीएमसी प्रशासन को ‘मैनीक्वीन’पर कार्रवाही करने का आदेश दिया है।

SHARE

बीएमसी की लॉ कमिटी ने दुकानों के बाहर लगे अवैध ‘मैनीक्वीन’ को हटाने का फैसला लिया है। बीएमसी के इस फैसले के बाद अब दूकानों के सामने खुले आम महिलाओं की लॉन्जरी नहीं बिकेगी।   बीएमसी की लॉ कमिटी चेयरमैन और शिवसेना नगरसेवक शीतल महात्रे ने बीएमसी प्रशासन को ‘मैनीक्वीन’पर कार्रवाही करने का आदेश दिया है। इस फैसले के बाद   दुकानों में लगाए गए अवैध ‘मैनीक्वीन’ को न सिर्फ हटाया जायेगा बल्कि दुकानदार के दोषी पाए जाने की स्थिति में उसका लाईसेंस भी रद्द किया जा सकता है।

15 दिनों का दिया गया है समय 

दुकानदरों को  इस कार्य के लिए 15 दिनों का समय दिया गया है।  साल 2013 में बीजेपी की नगरसेवक रितु तावडे ने मुंबई में दुकानों के बाहर लगे मैनीक्वीन को अश्लील बताकर हटाने की मांग की थी। रितु तावडे बीएमसी की साधारण बैठक में इन मैनीक्वीन पर रोक लगाने का प्रस्ताव भी रखा था। 

हालांकी उस समय बीएमसी प्रशासन ने कपड़े की दुकानों के बाहर लगाए गए ‘मैनीक्वीन’ पर पाबंदी लगाने से  इनकार कर दिया था। तत्कालीन बीएमसी कमिश्नर सीताराम कुंटे ने का कहना था कि मैनीक्वीन पर कार्रवाई का अधिकार बीएमसी के पास नहीं हैराज्य सरकार इसपर फैसला ले सकती है।

यह भी पढ़े- भ्रष्टाचार को छूपाने के लिए मंत्रिमंडल का विस्तार- अशोक चव्हाण

संबंधित विषय