क्या है नोटबंदी पर शिवसेना का स्टैंड?

मुंबई- नोटबंदी के बाद भी शिवसेना ने अभी तक अपना रवैया साफ नहीं किया है। पार्टी के सांसदो के एक शिष्टमंडल ने आरबीआई गवर्नर से मुलाकात की। इस मुलाकात में सांसदो ने गर्वनर को 500 और 1000 रुपये के नोट पर पाबंदी लगने से जनता को होनेवाली परेशानियों के बारे चिंता व्यक्त की। इतना ही नही , सांसदो ने अपनी बात को और पुख्ता तौर पर रखने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री और जानेमाने अर्थशास्त्री डा. मनमोहन सिंह के राज्यसभा में दिए गये भाषण का भी जिक्र किया। तो वही कांग्रेस को अभी भी शिवसेना की भूमिका दुहरे रवैये के जैसी दिख रही है। नोटबंदी पर शिवसेना ने धड़क मोर्चा और गवर्नर को निवेदन देने का कार्यक्रम बनाया था। लेकिन आरएसएस सरसंघचालक मोहन भागवत से शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे की मुलाकात के बाद चक्र फिर गया। धड़क मोर्चा का कार्यक्रम तो रह गया..लेकिन आवेदन देने का उपचार शुरु रहा।

Loading Comments