शिवसेना के विधायक मंत्रियों से क्यों हैं नाराज ?

 Bandra
शिवसेना के विधायक मंत्रियों से क्यों हैं नाराज ?

बांद्रा - बुधवार को दिनभर शिवसेना मंत्री और विधायकों की बैठक का सिलसिला जारी रहा। सुबह मातोश्री पर शिवसेना के मंत्रियों की बैठक थी। उसी दौरान विधान परिषद के अध्यक्ष ने गट नेताओं की बैठक का आयोजन हुआ और गट नेता हाजिर हुए। बैठक के बाद किसान कर्ज माफी के मुद्दे पर विधान मंडल में जमकर हो हल्ला हुआ। साथ ही इसके बाद किसानों के कर्ज माफी के लिए शिवसेना के मंत्रियों ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से उनके वर्षा बंगले पर मुलाकात की। इसी दौरान किसान कर्ज माफी, लटके हुए विकास काम और शिवसेना मंत्रियों के खिलाफ नाराजगी के मुद्दे को शिवसेना के विधायकों ने सीएम के सामने रखा।

शिवसेना के मंत्री समेत अन्य 38 विधायकों से मातोश्रीवर उद्धव ठाकरे ने मुलाकात की। इस दौरान शिवसेना के विधायकों ने उद्धव ठाकरे से शिकायत करते हुए कहा कि हाल ही में संपन्न हुए बीएमसी और अन्य निकाय चुनावों में शिवसेना के मंत्रियों का सपोर्ट नहीं मिला है। शहरी भागों के मंत्री ग्रामीण भागों में जाते ही नहीं हैं। ग्रामीण भागों के विधायकों को किसी भी विकास काम करने के लिए मंत्रियों की मदद नहीं मिलती है। साथ ही विधायकों ने शिकायत करते हुए कहा कि शिवसेना के विधायकों को बीजेपी के विधायकों की तुलना में विकास निधी कम दी जाती है। इस मौके पर उद्धव ठाकरे ने विधायकों को आश्वासन देते हुए कहा कि 2-3 दिन के भीतर मुख्यमंत्री से मिलकर विकास के कामों को आगे भढ़ाया जाएगा।

बैठक पूरी होने के बाद शिवसेना विधायक सुनील प्रभू ने पत्रकारों को बताया कि विधान मंडल में शुरु होने पर हर साल उद्धव ठाकरे विधायकों के लिए बैठक का आयोजन करते हैं। शिवसेना के विधायकों ने बहुत सारी बातें उद्धव ठाकरे के सामने आज की बैठक में रखीं। इस दौरान किसान कर्ज माफी पर बहुत सारी चर्चा हुई साथ ही उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के विधायकों को आदेश दिया कि बजट से पहले आप किसान कर्ज माफी के मुद्दे पर अक्रामक भूमिका निभाएं।


Loading Comments