महाराष्ट्र: राजनीति में वंशवाद, 10 उदाहरण

महाराष्ट्र की राजनीति में वंशवाद का एक और उदाहरण तब सामने आया जब गुरूवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे के बेटे अमित ठाकरे को अधिकारिक रूप से पार्टी का नेता घोषित किया गया। महाराष्ट्र में ऐसे कई नेता हैं जो वंशवाद के ताजा उदाहरण है

SHARE

महाराष्ट्र की राजनीति में वंशवाद का एक और उदाहरण तब सामने आया जब गुरूवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे के बेटे अमित ठाकरे को अधिकारिक रूप से पार्टी का नेता घोषित किया गया। महाराष्ट्र में ऐसे कई नेता हैं जो वंशवाद के ताजा उदाहरण है और जिन्होंने 2019 में राजनीती में पदार्पण किया। आइये ऐसे नेताओं पर डालते हैं एक नजर...

१)आदित्य ठाकरे, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे के पोते हैं. ये ठाकरे परिवार से चुनावी मैदान में उतरने वाले पहले सदस्य हैं. इस समय ये पर्यावरण मंत्री भी हैं।

२) अदिति तटकरे , एनसीपी नेता अदिति तटकरे रायगढ़ से  सांसद सुनील तटकरे की बेटी हैं. इस समय वे वर्तमान सरकार में  राज्यमंत्री के रूप में कार्यरत हैं।

 ३) अमित देशमुख, पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख के पुत्र हैं और वे और तीन बार लातूर से विधायक बन चुके हैं. वर्सोतमान ठाकरे सरकार में वे कैबिनेट मंत्री हैं। इनके भाई धीरज भी विधायक हैं और रितेश देशमुख बॉलीवुड एक्टर हैं।

४) विश्वजीत कदम,  कांग्रेस नेता और दिवंगत पतंगराव कदम के पुत्र हैं। विश्वजीत कदम वतर्मान सरकार में राज्यमंत्री के रूप में कार्यरत हैं।

५) पार्थ पवार, पवार फैमिली के तीसरी पीढ़ी के नेता पार्थ अजीत पवार के बेटे हैं, जबकि अजीत पवार शरद पवार के भतीजे हैं। पार्थ 2019 में मावल से भले ही चुनाव हार गये हो लेकिन वे काफी सक्रीय नेता माने जाते हैं।

 ६)सुजय विखे पाटिल, विखे परिवार की तीसरी पीढ़ी के नेता और राधाकृष्ण विखे पाटिल के बेटे हैं। अहमदनगर से सांसद सुजय कांग्रेस के नेता थे, लेकिन मतभेद के बाद वे पिता सहित बीजेपी में आ गये।

 ७) अंकिता पाटिल, कांग्रेस नेता और पुर्व मंत्री हर्षवर्धन पाटिल की पुत्री हैं। तीसरी पीढ़ी की नेता अंकिता पाटिल इस समय इंदापुर से जिला परिषद की सदस्य हैं।

८) जीशान सिद्दकी, कांग्रेस के पूर्व विधयाक और अपनी पार्टियों से सुर्खियां बटोरने वाले बाबा सीद्दिकी के पुत्र भी जीशान सिद्दकी ने इस बार चुनाव लड़ कर विधायकी जीती. ये बांद्रा पूर्व के विधयाक हैं।

९) ऋतुराज पाटिल,  ऋतुराज पाटिल डी.वाय पाटिल के पोते और संजय पाटिल के बेटे हैं. 2019 में विधायक का चुनाव जितने वाले ऋतुराज महाराष्ट्र में राज्यमंत्री सतेज पाटील के भतीजे भी हैं।

१०) रोहित पवार, शरद पवार के भतीजे रोहित पवार 2019 में पॉलिटिक्स में युवा चेहरे की पहचान बन कर सामने आए हैं. कर्जत-जाम्खेड़ा से विधायक रोहित को भावी नेता के रूप में देखा जा रहा है।  

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें