पालघर उपचुनाव: नालासोपारा चुनाव प्रचार में आमने सामने होंगे योगी और उद्धव


  • पालघर उपचुनाव: नालासोपारा चुनाव प्रचार में आमने सामने होंगे योगी और उद्धव
SHARE

पालघर में लोकसभा की एक सीट के लिए होने वाले उपचुनाव को लेकर सभी पार्टियां जम कर प्रचार कर रही हैं। शिवसेना के पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे सहित युवा सेना प्रमुख आदित्य ठाकरे ने खुद बागडोर संभाला है और प्रतिदिन रोड शो कर रहे हैं। जबकि बीजेपी की तरफ से मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस खुद मैदान में हैं। बताया जाता है कि हिंदुत्व और उत्तर भारतीय वोटरों को लुभाने के लिए बीजेपी के फायर ब्रांड नेता और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को चुनाव प्रचार करेंगे।


पालघर का गणित 
आपको बता दें कि पालघर में बीजेपी नेता चिंतामण वनगा के निधन के कारण यह सीट खाली हुई थी। इसके बाद वनगा के बेटे श्रीनिवास वनगा ने बीजेपी पर अनदेखी का आरोप लगाते हुए शिवसेना का दामन थाम लिया, जिसके बाद शिवसेना ने श्रीनिवास वनगा को टिकट दिया। इसे देखते हुए बीजेपी ने राजेंद्र गावित को टिकट का लालच देकर उन्हें अपने खेमे में कर लिया। यही नहीं, क्षेत्रीय पार्टी बहुजन विकास आघाड़ी की तरफ से बलिराम जाधव को टिकट दिया गया है। गौरतलब है कि यह सीट चिंतामण वनगा के पहले बलिराम जाधव की ही थी। इसे देखते हुए जाधव की भी दावेदारी मजबूत मानी जा रही है। हालांकि कांग्रेस ने भी आदिवासी नेता दामू शिंगड़ा को टिकट दिया है। दामू जमीनी स्तर के नेता माने जाते हैं और विधायकी भी जीत चुके हैं। स्थानीय लोगों में दामू की अच्छी पहचान है।


यूपी के सीएम करेंगे प्रचार 
उपचुनाव को लेकर बीजेपी के रिकॉर्ड काफी खराब रहा है। इसीलिए इस बार बीजेपी कोई भी कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है। मुख्यमंत्री जहां खुद रैली और रोड शो कर बीजेपी का जनाधार बढ़ाने में लगे हैं तो हिंदुत्व और उत्तर भारतीय वोटरों को अपने पाले में जोड़ने के लिए यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को भी बुलाया जा रहा है।

योगी वर्सेस उद्धव ठाकरे 
बुधवार 23 मई को विरार के मनवेलपाड़ा में योगी अपना रैली कर सकते हैं। पालघर जिले सहित विरार, नालासोपारा ऐसे इलाके हैं जहां उत्तरभारतीय काफी तादाद में रहते हैं। ऐसे में यह माना जा रहा है कि ये उत्तरभारतीय किसी भी मतदाता के भाग्य को बदल सकते हैं।
बताया जा रहा है कि बुधवार को नालासोपारा में योगी आदित्यनाथ की रैली होगी तो उसी दिन उद्धव ठाकरे की भी रैली का आयोजन किया गया है। अब यह दोनों नेता अपनी अपनी रैली में क्या बोलते हैं इस पर सभी की निगाहें रहेंगी। इसे देखते हुए एहतियातन तौर पर प्रशासन की तरफ से अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गयी है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें