SHARE

शेयर बाजार के लगातार गिरने से निवेशक भी बेजार होने लगे हैं, लगातार चौथे दिन डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर होने से और और कच्चे तेल की कीमतों में तेजी के चलते गुरुवार को भी शेयर बाजार में भारी गिरावट हुई। BSE का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 850 अंक की गिरावट के साथ 35,128 के स्तर पर आ गया तो वहीं NSE का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 250 अंक लुढ़ककर 10,599 के स्तर पर पहुँच गया।

बुधवार को  एक डॉलर के मुकाबले रुपया जहां 73.30 पैसे था तो गुरुवार को रुपया और गिर कर अब तक के सबसे निचले स्तर 73.60 रूपये पर आ गया, इसका प्रभाव बाजार पर भी पड़ा. इस गिरावट से निवेशकों के 3.13 लाख करोड़ रुपए डूब गए हैं। यही नहीं इस गिरावट का असर ही है कि BSE पर लिस्टेड कंपनियों के शेयरों की पूंजी 1,43,71,351.05 करोड़ रुपए से गिरकर 1,40,50,015.85 करोड़ रुपए पर आ गया।

लगातार गिरावट से शेयर बाजार निवेशकों के 3.13 लाख करोड़ रुपए डूब गए हैं। जानकारों की माने तो यह गिरावट क्रेडिट, इंटरेस्ट मार्केट के द्वारा अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाने के कारण हुई है. इसके अलावा IL&FS के रेटिंग डाउनग्रेड से दबाव बना हुआ है. जानकारों के मुताबिक यह गिरावट स्थायी नहीं है,इसीलिए निवेशकों को घबराना नहीं चाहिए, बल्कि गिरावट पर अच्छे शेयरों में निवेश करना फायदेमंद रहेगा।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें