Advertisement

टीवी और डिजिटल मीडिया पर दिखने वाले सट्टेबाजी के विज्ञापनों के खिलाफ दिशानिर्देश जारी

सूचना ओर प्रसारण मंत्रालय की ओर से जारी किए गए दिशानिर्देश

टीवी और डिजिटल मीडिया पर दिखने वाले सट्टेबाजी के विज्ञापनों के खिलाफ दिशानिर्देश जारी
SHARES

उपभोक्ताओं विशेष रूप से युवाओं और बच्चों के लिए महत्वपूर्ण आर्थिक और सामाजिक-आर्थिक जोखिमों को ध्यान में रखते हुए, सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने ऑनलाइन सट्टेबाजी साइटों (Guidelines issued against betting ads appearing on TV and digital media) के विज्ञापनों और इन साइटों के सरोगेट विज्ञापनों के खिलाफ दो दिशानिर्देश जारी किए। पहला नोटिफिकेशन निजी टीवी चैनलों के लिए और दूसरा ओटीटी प्लेटफॉर्म के लिए जारी किया गया है। 

मंत्रालय ने इससे पहले 13 जून, 2022 को समाचार पत्रों, निजी टीवी चैनलों और डिजिटल समाचार चैनलों को ऑनलाइन सट्टेबाजी प्लेटफार्मों के विज्ञापनों के प्रकाशन से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए थे। तब सरकार ने देखा कि टीवी पर कई स्पोर्ट्स चैनल, साथ ही ओटीटी प्लेटफॉर्म पर विदेशी ऑनलाइन सट्टेबाजी प्लेटफॉर्म अपनी सरोगेट न्यूज वेबसाइटों पर विज्ञापन प्रसारित कर रहे थे।

इन दिशानिर्देशों को जारी करने में, विदेशी सट्टेबाजी प्लेटफार्मों जैसे कि फेयरप्ले, परीमैच, बेटवे, वुल्फ777 और 1xबेट से प्रत्यक्ष और छिपे हुए विज्ञापन के प्रमाण प्रदान किए गए हैं ताकि इन प्रकारों की पुष्टि की जा सके।

इन नोटिसों में, मंत्रालय ने सूचित किया है कि विदेशी ऑनलाइन सट्टेबाजी प्लेटफॉर्म डिजिटल मीडिया पर सट्टेबाजी प्लेटफार्मों को विज्ञापित करने के लिए समाचार वेबसाइटों को एक गुप्त उत्पाद के रूप में उपयोग कर रहे हैं। ऐसे मामलों में मंत्रालय ने पाया है कि इस तरह के सरोगेट समाचार वेबसाइटों और इन सट्टेबाजी प्लेटफार्मों के लोगो बेहद समान हैं।

मंत्रालय ने बताया है कि न तो ये सट्टेबाजी प्लेटफॉर्म और न ही ये समाचार वेबसाइट भारत में किसी कानूनी प्राधिकरण के साथ पंजीकृत हैं। ये वेबसाइटें खबरों की आड़ में छिपे विज्ञापनों के जरिए सट्टेबाजी और जुए को बढ़ावा दे रही हैं।

चूंकि सट्टेबाजी और जुआ देश के अधिकांश हिस्सों में अवैध हैं, ऐसे सट्टेबाजी प्लेटफॉर्म और उनके छिपे हुए उत्पाद भी अवैध हैं, मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों में कहा गया है। ये दिशानिर्देश उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019, केबल टीवी नेटवर्क विनियमन अधिनियम 1995 और सूचना प्रौद्योगिकी नियम 2021 के प्रावधानों पर आधारित हैं।

टीवी चैनलों को यह भी याद दिलाया जाता है कि ये विज्ञापन विभिन्न प्रासंगिक कानूनों के अनुपालन में नहीं हैं और डिजिटल समाचार प्रकाशकों को भी इस तरह से सट्टेबाजी प्लेटफार्मों या सरोगेट समाचार वेबसाइटों का विज्ञापन न करने की सख्त चेतावनी दी जाती है और इन दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने पर दंडित किया जाएगा। 

यह भी पढ़ेक्रिकेट के इन नियमों में हुआ बदलाव

संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें