तनिष्क किसी 'तनिष्क' से कम नहीं


  • तनिष्क किसी 'तनिष्क' से कम नहीं
  • तनिष्क किसी 'तनिष्क' से कम नहीं
SHARE

प्रतिक्षानगर के तनिष्क करंजे नाम के विद्यार्थी ने कुंग फू के राष्ट्रीय स्पर्धा के स्वर्णपदक पर अपना कब्जा जमाया। पिछलें साल NHAF के राष्ट्रीय चित्रकला स्पर्धा पर तनिष्क अपने वर्ग में भारत में पहले स्थान पर था। इस स्पर्धा में दो तरह का मूल्यांकन किया गया था।

पहले मूल्यांकन में बच्चे के चित्र को देखा गया तो वही दूसरे मूल्यांकन में फेसबुक लाइक्स को तरजीह दी गई। इन दोनों मूल्यांकन में तनिष्क करंजे को काफी अच्छे अंक मिले। जिसके कारण उसे प्रतियोगिता में पहला स्थान प्राप्त हुआ।

तनिष्क एक अच्छे चित्रकार होने के साथ साथ एक अच्छे खिलाड़ी हैं। चित्रकला और कुंग फू के साथ साथ वह हर चैलेंज को जीतने की भरपूर कोशिश करते हैं। साथ ही वह हाजिरजवाब भी हैं। उनके पास मराठी शब्दों का भंडार है। तनिष्क के पिता निलेश करंजे ने बताया कि खेल के अलावा , सिनेमा, नाटक, सामाजिक कार्य, राजकीय, अंतरराष्ट्रीय खबरों पर भी अच्छी पकड़ है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें