चर्चगेट स्टेशन पर लगे प्लास्टिक से बने बेंच

यह प्रयास भारतीय रेलवे द्वारा 'स्वच्छ भारत अभियान' को बढ़ावा देने की दिशा में उठाया गया एक कदम है।

SHARE

भारतीय रेलवे के पश्चिम रेलवे  ने पुनर्नवीनीकरण प्लास्टिक से बने बेंच स्थापित करके एक अनूठी पहल की है। चर्चगेट स्टेशन परिसर में प्लास्टिक बेंच लगाई गईं। आधिकारिक बयान के अनुसार, यह शायद पहली बार है कि भारतीय रेलवे में एक मुख्य यात्री सुविधा में पुनर्नवीनीकरण प्लास्टिक का उपयोग किया गया है। यह प्रयास भारतीय रेलवे द्वारा 'स्वच्छ भारत अभियान' को बढ़ावा देने की दिशा में उठाया गया एक कदम है।

चर्चगेट रेलवे स्टेशन के उत्तर छोर पर प्लेटफॉर्म नंबर 2/3 पर प्लास्टिक बेंच लगाई गई हैं। ये बेंचें एम / एस बिसलेरी इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड के सहयोग से बॉटल फॉर चेंज ’प्रोग्राम के तहत बनाई गई है।  ऐसी तीन बेंच चर्चगेट स्टेशन पर रखी गई हैं।मेसर्स बिसलेरी इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड ने अपनी सीएसआर पहल के एक हिस्से के रूप में पुनर्नवीनीकरण प्लास्टिक द्वारा बनाई गई तीन बेंचों को रखा।

बोटल्स फॉर चेंज’ का उद्देश्य जनता को रीसाइक्लिंग के लिए प्लास्टिक की वस्तुओं को भेजने के महत्व के बारे में शिक्षित करना है और इसे कचरे के रूप में नहीं मानना है जो एक स्वच्छ वातावरण की ओर ले जाता है।बोतलों के लिए पुनर्नवीनीकरण किए गए प्लास्टिक बेंच द्वारा चेंज-पोस्टमोनर मिक्स प्लास्टिक्स यानी एमएलपी, प्लास्टिक बैग / पाउच और इस तरह के सॉफ्ट प्लास्टिक्स से बनाया जाता है।

प्लास्टिक को पहले छोटे टुकड़ों में काट दिया जाता है, कटे हए टुकड़े को आवश्यक मोटाई के ट्रे में फैलाया जाता है और इस ट्रे को आग के  एक ओवन में रखा जाता है और विशेष तापमान पर इसे गर्म किया जाता है।  इस बेंच का आकार 8 फीट x 4 फीट है।  लगभग 40-50 किलोग्राम सॉफ्ट प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़े- सीएनजी और पीएनजी की दरों में कटौती

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें