video: मुंबईकरों को मिली राहत, बेस्ट की हड़ताल समाप्त

हड़ताल खत्म होने के बाद जहां बेस्ट कर्मचारियों ने ख़ुशी जताई तो वहीँ मुंबईकरों ने भी राहत की सांस ली। इसके थोड़ी ही देर बाद सड़कों पर बेस्ट की सड़कें चलती हुई दिखाई देने लगी।

SHARE

बुधवार का दिन मुंबईकरों के लिए राहत भरी खबर लाया क्योंकि पिछले 9 दिनों से चल रही बेस्ट (बृहन्मुंबई विद्युत आपूर्ति एवं यातायात) की हड़ताल कोर्ट के आदेश के बाद समाप्त हो गयी। हाई कोर्ट और सरकार से कई मुद्दों पर सहमती के बाद बेस्ट कर्मचारी यूनियन के नेता शशांक राव ने हड़ताल वापस लेने की घोषणा की।इस हड़ताल के समाप्त होने के बाद अब सड़कों पर बेस्ट की बसें चलने लगी हैं। आपको बता दें कि अपनी मांगों को लेकर पिछले 9 दिनों से यानी 7 जनवरी की आधी रात से ही बेस्ट के 32 हजार कर्मचारी हड़ताल पर थे, जिससे बेस्ट में प्रतिदिन यात्रा करने वाले 25 लाख यात्री प्रभावित थे।

बुधवार को हाई कोर्ट की सुनवाई के बाद याचिकाकर्ता के वकील दत्ता माने ने कहा कि सरकार ने जनवरी महीने से वेतन बढ़ोतरी का आश्वासन दिया है, इसके लिए उच्च स्तरीय कमेटी में सभी 10 मुद्दों पर यथाशीघ्र विचार कर निर्णय लिया जाएगा। इसके साथ ही हड़ताल पर गए कर्मचारियों पर कोई कार्रवाई नहीं होगी।


जबकि कोर्ट में बेस्ट कर्मचारी यूनियन के वकील ने हड़ताल खत्म करने के लिए कहा कि कोई ऐसा शख्स मध्यस्थता करे जो बेस्ट के मुद्दों को समझता हो लेकिन वह ब्यूरोक्रेट ना हो। इसके बाद कोर्ट ने बेस्ट कि मांग को समझने के लिए एक रिटायर जज की अध्यक्षता में एक सदस्यीय पैनल बनाने का आदेश दिया. यह पैनल तीन महीने में अपनी रिपोर्ट कोर्ट में पेश करेगा।

बेस्ट यूनियन बेस्ट के बजट का बीएमसी में विलय करने की अपनी मांग को लेकर अड़ा हुआ है। बेस्ट के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सरकार इस मांग पर गंभीरता से विचार कर रही है। बेस्ट प्रशासन के भी एक अधिकारी ने कहा उच्चाधिकार प्राप्त समिति दोनों बजटों का विलय करने पर गंभीरता से विचार कर रही है।इस पर जल्द ही फैसला लिया जा सकता है।

तो वहीँ बेस्ट कर्मियों को संबोधित करते हुए यूनियन नेता शशांक राव ने कहा कि तीन सदस्यीय गठित समिति की सिफारिश मानते ही कर्मचारियों का भविष्य खत्म हो जाएगा। इसीलिए हम सभी ने तय किया है कि हम इसे स्वीकार करने की बजाय लड़कर मरना पसंद करेंगे। साथ ही राव ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे पर बेस्ट को बंद करने का आरोप लगाते हुए कहा कि, उद्धव ठाकरे बेस्ट चलाना नहीं चाहते हैं, इसलिए वे यह सब कर रहे हैं। इसके बाद राव ने बेस्ट कर्मचारियों के वेतन में महीने भर में न्यूनतम 7 हजार रुपए के बढ़ोत्तरी की बात कही। 


आपको बता दें कि बेस्ट की यह हड़ताल बेस्ट के इतिहास में अब तक की सबसे लंबी हड़ताल है। यह मांग कर्मियों ने वेतन वृद्धि, कनिष्ठ स्तर के कर्मचारियों के लिए वेतन मान में सुधार और नुकसान में चल रही बेस्ट के बजट को बीएमसी के बजट के साथ विलय जैसे अन्य मुद्दे शामिल थे।

हड़ताल खत्म होने के बाद जहां बेस्ट कर्मचारियों ने ख़ुशी जताई तो वहीँ मुंबईकरों ने भी राहत की सांस ली। इसके थोड़ी ही देर बाद सड़कों पर बेस्ट की सड़कें चलती हुई दिखाई देने लगी।


पढ़ें: बेस्ट हड़ताल- बॉम्बे हाईकोर्ट ने कर्मचारियों को दिया हड़ताल खत्म करने का आदेश

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें