फुटओवर ब्रिज हादसे के बाद 30 ब्रिजों की शुरू हुई मरम्मत

पिछले साल अंधेरी के गोखले ब्रिज गिरने के बाद रेलवे मंत्री पियूष गोयल ने सभी फुटओवर ब्रिज सहित रेलवे ब्रिज की भी जांच का आदेश दिया था।

SHARE

सीएसटी स्टेशन के बाहर फुटओवर ब्रिज गिरने से 6 लोगों की मौत हो गयी और 33 लोग घायल हो गए। इस हादसे के बाद मुंबई में बने सभी रेलवे ब्रिज और सड़क ब्रिज पर सवाल उठने लगे। इसके बाद मध्य रेलवे और पश्चिम रेलवे ने सभी रेलवे ब्रिज और फुटओवर ब्रिज का निरीक्षण किया। इस निरिक्षण का जो रिपोर्ट सामने आया है उसके मुताबिक 30 ब्रिजों को मरम्मत की तत्काल आवश्यकता है।

पिछले साल अंधेरी के गोखले ब्रिज गिरने के बाद रेलवे मंत्री पियूष गोयल ने सभी फुटओवर ब्रिज सहित रेलवे ब्रिज की भी जांच का आदेश दिया था। जिसके बाद रेलवे, बीएमसी और आईटीआई बॉम्बे की संयुक्त टीम ने सर्वे किया था। और इसकी एक रिपोर्ट बना कर सरकार को सौंपी थी।

पश्चिम रेलवे के 115 FOB और 29 पुलों को चेक किया गया था, जिसमें 28 पुलों को सुरक्षित बताते हुए केवल लोअर परेल स्टेशन के बाहर वाले ब्रिज को असुरक्षित बताया गया था और उसके मरमम्त का कार्य शुरू किया गया। साथ ही बांद्रा कलानगर, अंधेरी, माहिम, वसई, मालाड के ब्रिजों और FOB की भी जुलाई महीने में मरम्मत की जाएगी। इसके अलावा चर्नी रोड, ग्रांट रोड, मुंबई सेंट्रल, महालक्ष्मी, प्रभादेवी, दादर, खार, विलेपार्ले, गोरेगांव, मलाड स्टेशन के FOB के भी मरम्मत करने की भी बात कही गयी है। पश्चिम रेलवे के चार स्टेशनों पर भी नए ब्रिज बनाने की बात कही गयी है।

मध्य रेलवे के 89 ब्रिज में से 81 ब्रिजों का सर्वे किया गया। साथ ही 191 में से 178 FOB और 19 अन्य पुलों में से 17 पुलों का सर्वे किया गया। 178 ब्रिज में से मुंब्रा स्टेशन वाले FOB को गिरा दिया गया। इसी तरह से 10 पुलों का भी आंशिक मरम्मत किया गया जिसमें कुर्ला, विक्रोली, भांडुप, कल्याण सहित अन्य स्टेशनों का ब्रिज का समावेश है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें