Advertisement

महिलाओं को अनुमति मिलने के बाद लोकल ट्रेन में लाखों यात्रियों की बढ़ोतरी

सेंट्रल वेस्टर्न हार्बर रेलवे में रोजाना लगभग 8 लाख यात्री आते हैं। दूसरी ओर, वरिष्ठ नागरिकों के साथ-साथ आम आदमी अभी भी यात्रा की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

महिलाओं को अनुमति मिलने के बाद लोकल ट्रेन में लाखों यात्रियों की बढ़ोतरी
SHARES

मुंबई की लाइफ लाइन लोकल सेवा (Mumbai Local) कोरोना के मद्देनजर बंद कर दी गई थी। लेकिन कोरोना (Coronavirus) के कारण नौकरों की समस्याओं को देखते हुए, राज्य सरकार ने लोकल सेवा शुरू करने का फैसला किया। तदनुसार, शुरू में आपातकालीन सेवा कर्मियों के लिए लोकल में यात्रा की अनुमति थी। उसके बाद, कई लोग जैसे बैंक कर्मचारी, मुंबई के डब्बेवाले, वकीलों को अनुमति दी गई। इसके अलावा, इस साल की नवरात्रि के मौके पर महिलाओं के लिए लोकल यात्रा शुरू की गई। महिलाओं को यात्रा करने की अनुमति को मिले महज एक हप्ता हुआ है और 1 लाख से अधिक यात्रियों की लोकल में बढ़तरी हो गई है।

सेंट्रल वेस्टर्न हार्बर रेलवे में रोजाना लगभग 8 लाख यात्री आते हैं। दूसरी ओर, वरिष्ठ नागरिकों के साथ-साथ आम आदमी अभी भी यात्रा की प्रतीक्षा कर रहे हैं। महिलाओं को स्थानीय रूप से यात्रा करने की अनुमति देने के बाद, हर दिन औसतन 35,000 से 40,000 यात्रियों को पंजीकृत किया गया। दशहरा के बाद, तीनों मार्गों पर यात्रियों की संख्या में वृद्धि हुई है।

यह भी पढ़ें: कोरोना ने बेस्ट के इतने कर्मचारियों की ली जान

वर्तमान में, लगभग 4.10 लाख यात्री पश्चिम रेलवे में और लगभग 4 लाख यात्री मध्य रेलवे में यात्रा कर रहे हैं। तीनों मार्गों पर 8 लाख से अधिक यात्रियों को टिकट पाने के लिए टिकट खिड़कियों पर निर्भर रहना पड़ता है। नतीजतन, कई स्टेशनों पर टिकट खिड़कियों पर कतारें बढ़ती जा रही हैं और यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। यात्रियों की मांग है कि उनके लिए UTS सर्विस शुरु की जाए।

कर्मचारियों को निजी वाहनों में यात्रा करनी पड़ती है क्योंकि उन्हें लोकल में यात्रा की अनुमति नहीं है। परिणामस्वरूप, इसका असर उनकी जेब पर पड़ रहा है और वे वित्तीय संकट से चिंतित हैं। इसके अलावा, गड्ढों और ट्रैफिक जाम ने कई वरिष्ठ नागरिकों की यात्रा को बहुत मुश्किल बना दिया है। मेडिकल, साथ ही आयुर्वेदिक उपचार या अन्य कारणों से वरिष्ठों के लिए यात्रा अनिवार्य है।

यह भी पढ़ें: अजित पवार की तबियत और बिगड़ी, हुए ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय