Advertisement

दिल्ली में कोरोना का फिर बढ़ा प्रकोप, थम सकती है मुंबई-दिल्ली रेलवे और विमानसेवा?

सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर शुरु हो चुकी है। जिससे दिल्ली की स्थिति और नाजुक होती जा रही है।

दिल्ली में कोरोना का फिर बढ़ा प्रकोप, थम सकती है मुंबई-दिल्ली रेलवे और विमानसेवा?
SHARES

दिल्ली और मुंबई के बीच रेलवे और विमान सेवा पर फिर ब्रेक लग सकता है। मार्च महीने में कोरोना के प्रसार के कारण इन सेवाओं को रोक दिया गया था, जिसके बाद अनलॉक के दौरान करीब 3 महीने बाद इसे खोला गया था, लेकिन अब एक बार फिर से दिल्ली में कोरोना वायरस अपना पैर पसार रहा है। जिसके बाद दिल्ली और मुंबई के बीच रेलवे और विमान सेवा को रोकने के लिए निर्णय लिया जा सकता है।

बताया जा रहा है कि, अभी इस विषय पर केवल चर्चा ही चल रही है। इसके पीछे की वजह दिल्ली में बढ़ते हुए कोरोना के केस हैं।

सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर शुरु हो चुकी है। जिससे दिल्ली की स्थिति और नाजुक होती जा रही है। इस पूरे घटनाक्रम में महाराष्ट्र सरकार की भी नजर बनी हुई है।

बताया जा रहा है कि, दिल्ली के हालात को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार अगले कुछ दिनों के लिए दिल्‍ली-मुंबई उड़ानें और रेल सेवाएं बंद करने की योजना पर आगे बढ़ सकती है।

कोरोना के शुरुआती चरण में यानी अप्रैल, मई तक मुंबई में कोरोना का प्रसार अन्य शहरों की अपेक्षा सर्वाधिक था। मुंबई देश में कोरोना मरीजों का सबसे बड़ा स्पॉट बन गया था।

अब जबकि इस संकट से मुंबई धीरे-धीरे निकल रही है, और स्थिति नियंत्रण में आ रही है तो दिल्ली की स्थिति ने मुंबईकरों के मन में भी भय पैदा कर दिया है। क्योंकि दिल्ली और मुंबई के बीच सभी आवागमन बेरोकटोक चल रहे हैं।

साथ ही यह भी अंदेशा जताया जा रहा है कि, दीवाली, क्रिसमस और नए साल के कारण जनवरी महीने तक मुंबई में कोरोना की एक दूसरी लहर आ सकती है। इसलिए, मुंबई में कोरोना की एक और संभावित लहर को रोकने के लिए समय पर कदम उठाए जा रहे हैं।

के संजय कुमार ने यह भी स्पष्ट किया कि अंतिम निर्णय संबंधित के साथ विचार-विमर्श के बाद ही लिया जाएगा क्योंकि राज्य सरकार के साथ रेलवे और नागरिक उड्डयन विभाग की अनुमति आवश्यक है।


हालांकि देर शाम तक रेलवे ने ट्वीट करते हुए  इस बात की घोषणा की कि, रेलवे की तरफ से अभी फाल फिलहाल कोई भी ट्रेंन कैंसिल करने की घोषणा की गई है।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय