नवी मुंबई हवाई अड्डे के पहले चरण में 8,500 करोड़ रुपये निवेश करेगा जीवीके

हवाई अड्डा एक सार्वजनिक-निजी भागीदारी वाला उपक्रम है जिसमें जीवीके के नेतृत्व वाले मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे की सिडको के साथ 74% हिस्सेदारी है, परियोजना के लिए महाराष्ट्र सरकार की नोडल एजेंसी है जिसकी शेष 26% हिस्सेदारी है।

SHARE

जीवीके समूह, जो नवी मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को विकसित करने की प्रक्रिया में है, पहले चरण में प्रति वर्ष 10 मिलियन यात्रियों को पूरा करने के लिए पहले चरण में 8,500 करोड़ रुपये खर्च करेग।   इन्फ्रा प्रमुख जीवीके रेड्डी ने बुधवार को इस बात की जानकारी दी।   हवाई अड्डा एक सार्वजनिक-निजी भागीदारी वाला उपक्रम है जिसमें जीवीके के नेतृत्व वाले मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे की सिडको के साथ 74% हिस्सेदारी है, परियोजना के लिए महाराष्ट्र सरकार की नोडल एजेंसी है जिसकी  शेष 26% हिस्सेदारी है।  


यह नया अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा 1,160 एकड़ में कई चरणों में बनेगा और इसकी यात्री क्षमता 6 करोड़ यात्री सालाना होगी। जीवीके पावर एंड इंफ्रा लिमिटेड (जीवीकेपीआईएल) की सालाना आम बैठक में रेड्डी ने शेयरधारकों को बताया , " पहले चरण में , इस पर करीब 8,500 करोड़ रुपये का निवेश होगा। पहले चरण में इसकी क्षमता एक करोड़ यात्री सालाना होगी। 2,500 करोड़ रुपये या 3,000 करोड़ रुपये खर्च करके इसकी क्षमता को 2 करोड़ यात्री किया जा सकता है। परियोजना पटरी पर है और अच्छी चल रही है। "

नवी मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे और शहर और औद्योगिक विकास निगम (CIDCO) के बीच 8 जनवरी, 2018 को नवी मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के लिए रियायत समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे।

यह भी पढ़े- प्रसिद्ध रेस्टोरेंट Britannia & Co के मालिक बोमन कोहिनूर का निधन

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें