एसटी बसों के किराए में 30 फिसदी की बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव


SHARE

पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ती किमतो का असर राज्य के एसटी बसों पर भी देखने को मिला है। जहां कुछ दिनों पहले परीवहन मंत्री ने राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर डीजल में लगनेवाले करों को कम करने की मांग की थी , तो व ही कुछ दिनों बाद ही एसटी बसों के किराए में 30फिसदी की बढ़ोत्तरी करने पर विचार कर रहा है। एसटी प्रशासन ने एसटी महामंडल के अध्यक्ष के पास एक प्रस्ताव भेजा है जिसमें किराए को तीसफिसदी बढ़ाने की बात कही गई है।

दरअसल 30 फिसदी बढो़त्तरी काफी बढ़ी बढ़ोत्तरी है , इसके साथ ही एसटी बसों की ओर से शिवशाही, शिवनेरी जैसी बसों का भी किराया बढ़ सकता है। अगर एसटी अध्यक्ष ने इस प्रस्ताव को मान लिा तो एसटी बसों के किरए में बढ़ोत्तरी तय है जिसके सीधा असर आम जनता पर पड़ेगा। पिछलें कई सालों से एसटी महामंडल नुकसान में चल रहा है।

डीजल की खरीदी पर एसटी को 470करोड रुपये का अतिरिक्त खर्च करना पड़ रहा है। जिसके कारण एसटी पर लगातार आर्थिक बोझ बढ़ता जा रहा है। एसटी बसों में पहले से ही कर्मचारियों के पगार को लेकर काफी समस्याएं हो रही है, जिसके कारण अब डीजल के कारण एसटी पर अतिरिक्त बोझ पड़ रहा है।

संबंधित विषय