24 घंटे में मुंबई एयर ट्रैफिक कंट्रोल को 1200 फ्लाइट्स करनी पड़ी हैंडल

हालात ऐसे हो गए कि 24 घंटे में मुंबई एयर ट्रैफिक कंट्रोल को 1200 फ्लाइट्स हैंडल करनी पड़ीं जो सामान्य से 60 फीसदी अधिक थीं। हर दिन यहां करीब 750 फ्लाइट्स हैंडल की जाती हैं।

SHARE

भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ती तनाव की स्थिति का असर बुधवार को आसमान में भी देखने को मिला। पाकिस्तान ने अपना एयरस्पेस बुधवार दोपहर को अचानक बंद कर दिया जिसके बाद मुंबई में एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स वेस्ट और साउथईस्ट एशिया के बीच ब्रिज का काम कर रहा है। 

कुछ ही देर में फोन लाइन्स बजने लगीं। उन्हें दिल्ली और अहमदाबाद ट्रैफिक कंट्रोल से हवा में फंसी फ्लाइट्स के बारे में कॉल्स आने लगे। वेस्ट को जाने वाली फ्लाइट्स कौन से रूट से जा सकती थीं ताकि पाकिस्तान न जाना पड़े, इस बारे में लोग पूछने लगे। थोड़ी देर ही बीती होगी कि हॉन्ग-कॉन्ग, जकार्ता, हनोई, ब्रूनाई, कुआला लंपुर, सिंगापुर जैसे दूर पूर्वी देशों से पश्चिम जाने वाली फ्लाइट्स मुंबई से होकर जाने का रास्ता पूछने लगीं।

हालात ऐसे हो गए कि 24 घंटे में मुंबई एयर ट्रैफिक कंट्रोल को 1200 फ्लाइट्स हैंडल करनी पड़ीं जो सामान्य से 60 फीसदी अधिक थीं। हर दिन यहां करीब 750 फ्लाइट्स हैंडल की जाती हैं। माना जा रहा है कि एयर कंट्रोल ने शायद कोई रेकॉर्ड बना लिया होगा। बता दें कि कराची और लाहौर के एयरस्पेस से गुजरने वाले पांच हवाई रास्तों को बुधवार दोपहर 2 बजे बंद कर दिया गया था। इससे करीब 500 फ्लाइट्स पर असर पड़ा। 

इन्हें मुंबई के ऊपर से L301 रूट से निकाला गया। यह रूट मलेशिया से शुरू होता है, चेन्नै, नागपुर, मुंबई के रास्ता ओमान को जाता है। सामान्य तौर पर हर घंटे करीब 20 फ्लाइट्स L301 से निकलती हैं जबकि बुधवार को इससे दोगुनी करीब 35-40 फ्लाइट्स निकलीं। एक कंट्रोलर ने बताया कि दिल्ली से करीब 150-200 इंटरनैशनल फ्लाइट्स मुंबई के रास्ते निकलीं जिनमें से ज्यादातर L301 से होकर गुजरीं। उनके अलावा काठमांडू, लखनऊ, वाराणसी की फ्लाइट्स भी मुंबई से होकर निकलीं। 

कुछ ही देर में फोन लाइन्स बजने लगीं। उन्हें दिल्ली और अहमदाबाद ट्रैफिक कंट्रोल से हवा में फंसी फ्लाइट्स के बारे में कॉल्स आने लगे। वेस्ट को जाने वाली फ्लाइट्स कौन से रूट से जा सकती थीं ताकि पाकिस्तान न जाना पड़े, इसमें बारे में लोग पूछने लगे। थोड़ी देर ही बीती होगी कि हॉन्ग-कॉन्ग, जकार्ता, हनोई, ब्रूनाई, कुआला लंपुर, सिंगापुर जैसे दूर पूर्वी देशों से पश्चिम जाने वाली फ्लाइट्स मुंबई से होकर जाने का रास्ता पूछने लगीं।

संबंधित विषय