ओला-उबर की हड़ताल, टैक्सी और ऑटो वाले वसूल रहे मनमाना किराया

पिछले सोमवार से जारी इस हड़ताल में लगभग 90 फीसदी ओला-उबर वाले शामिल हुए हैं।ग्राहक बता रहे हैं चालू दिनों में टैक्सी बुक करने के 5 से 10 मिनट बाद ही उपलब्ध हो जाती थी लेकिन अब आधा घंटा इंतजार करना पड़ रहा है।

SHARE

पिछले एक हफ्ते से जारी ऐप आधारित पब्लिक ट्रांसपोर्ट सेवा ओला-उबर की हड़ताल का फायदा काली-पीली टैक्सी और ऑटो रिक्शा वाले ग्राहकों से मनमाना किराया वसूल कर उठा रहे हैं। आपको बता दें कि यह हड़ताल महाराष्ट्र राज्य राष्ट्रीय कामगार संघ की तरफ से विभिन्न मांगों को लेकर किया जा रहा है।

पिछले सोमवार से जारी इस हड़ताल में लगभग 90 फीसदी ओला-उबर वाले शामिल हुए हैं।ग्राहक बता रहे हैं चालू दिनों में टैक्सी बुक करने के 5 से 10 मिनट बाद ही उपलब्ध हो जाती थी लेकिन अब आधा घंटा इंतजार करना पड़ रहा है। हड़ताल के बाद ओला-उबर वालों ने भी अपने किराए में बढ़ोत्तरी कर दी है।

तो वहीं इस हड़ताल का फायदा उपनगरों में काली पीली टैक्सी और ऑटो वाले यात्रियों से मनमाना किराया वसूल करके उठा रहे हैं।  हड़ताल होने की वजह से लोग ऑटो या फिर टैक्सी की सेवा ले रहे हैं। ये ऑटो और टैक्सी वाले भी मीटर की जगह यात्रियों से मनमाना 'रेट' फिक्स करके ही उन्हें अपनी सेवा दें रहे हैं।

कामगार संघ का कहना है कि जब तक कंपनियां ड्राइवरों की मांग स्वीकार नहीं कर लेतीं, हड़ताल जारी रहेगी। हड़ताल में भाग लेने वाले एक ड्राइवर ने कहा कि डीजल के दामों की बढ़ोतरी के बावजूद उबर ने किराया घटा दिया, इससे हमारी कमाई प्रभावित हुई है।

अन्य ड्राइवरों का भी कहना है कि कारों का न्यूनतम किराया 100 रुपये से 150 रुपये बढ़ाकर देना चाहिए। इसके अलावा प्रति किमी किराया 18 रुपये से बढ़ाकर 23 रुपये होना चाहिए।

पढ़ें: ओला-उबर ड्राइवरों की अनिश्चितकालीन हड़ताल

आपको बता दें कि इस मामले को लेकर एनसीपी नेता और विधान परिषद् के विपक्ष नेता धनंजय मुंडे और सचिन अहिर ने गुरुवार को परिवहन मंत्री दिवाकर रावते से भी मुलाकात कर इस मामले में राज्य सरकार को दखल देने की बात कही थी। सरकार ने इस मुद्दे पर उचित कदम उठाने की भी बात कही थी।

एक हफ्ते से चल रही इस हड़ताल को लेकर अभी ओला या उबर की ओर से कोई आधिकारिक स्पष्टीकरण नहीं दिया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कंपनी से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि कुछ लोगों की मांग और डराने के कारण अन्य ड्राइवर टैक्सी सर्विस नहीं दे रहे हैं।

पढ़ें: ओला-उबर कार चालको का आज आंदोलन , सेवा में पड़ सकता है असर

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें