प्राइवेटाइजेशन के खिलाफ एयरपोर्ट के कर्मचारी और अधिकारी करेंगे भूख हड़ताल

इस मतदान में एएआई के 771 कर्मचारी और अधिकारीयों ने मतदान किया था जिसमें से मात्र 30 लोग हड़ताल के खिलाफ थे बाकी सभी हड़ताल के पक्ष में।

SHARE

सरकार ने देश के 6 एयरपोर्ट का निजीकरण (प्राइवेटाइजेशन) करने निर्णय लिया है। इस प्राइवेटाइजेशन के विरोध में मुंबई एयरपोर्ट सहित देश भर के एयरपोर्ट कर्मचारी विरोध करते हुए अब इसके खिलाफ हड़ताल करने की धमकी दी है। तदनुसार बुधवार से एयरपोर्ट के कर्मचारी और अधिकारी काम को लेकर हड़ताल शुरू कर सकते हैं। लेकिन पुलवामा आतंकी हमला को देखते हुए ये कर्मचारी काम हड़ताल की जगह चैन एक के बाद एक कर्मचारी (चैन सिस्टम) भूख हड़ताल करने का निर्णय लिया है.

आपको बता दें कि लखनऊ, हैदराबाद, जयपूर, मंगलौर, गुवाहाटी और तिरुवनंतपुरम एयरपोर्ट का निजीकरण करने का निर्णय लिया गया है। इसके पहले इस निजीकरण के खिलाफ मुंबई एयरपोर्ट पर एएआई (AIRPORTS AUTHORITY OF INDIA) कर्मचारी और अधिकारीयों ने हड़ताल को लेकर गुप्त मतदान किया था। इस मतदान में करीब 96 फीसदी लोगों ने हड़ताल के पक्ष में मतदान किया जबकि 4 फीसदी लोगों ने हड़ताल के खिलाफ। 

इस मतदान में एएआई के 771 कर्मचारी और अधिकारीयों ने मतदान किया था जिसमें से मात्र 30 लोग हड़ताल के खिलाफ थे बाकी सभी हड़ताल के पक्ष में।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें