इलाहाबाद से मुंबई और भी तेज दौड़ेगी ट्रेन

इस रूट के विद्युतीकरण होने के कारण ट्रेन की स्पीड और भी बढ़ सकती है

SHARE

मुंबई से इलाहाबाद और इलाहाबाद से मुंबई आने जानेवालो की संख्या काफी बढ़े तादाद में है। इस रुट पर चलनेवाली ट्रेन आम तौर पर यात्रियों से खचाखच भरी होती है।  मुंबई से इलाहाबाद पहुंचने में आम तौर पर 28 से 32 घंटे लगते है।  लेकिन अब रेलवे के एक फैसले के कारण यह समय कम होने की संभावना है।  मुंबई रेलमार्ग पर इसी वित्तीय वर्ष ट्रेनों की स्पीड बढ़ जाने की उम्मीद है। यह संभव होगा इस रूट के विद्युतीकरण होने से।

विद्युतीकरण पूरा करने का दावा
इलाहाबाद यानी की  प्रयागराज स्थित केंद्रीय रेल विद्युतीकरण संगठन (कोर) की ओर से इस रूट के बचे हुए सतना-कटनी रेलखंड  पर इसी वित्तीय वर्ष रेल विद्युतीकरण पूरा करने का दावा किया है। इसके बाद संबंधित रूट पर इलेक्ट्रिक इंजन लगी ट्रेनों की आवाजाही शुरू हो जाएगी। इलेक्ट्रिक इंजन लगी ट्रेनों के शुरू होने के बाद संबंधित रूट पर चलने वाली तमाम ट्रेनों की स्पीड में इजाफा हो जाएगा। 


इलाहाबाद जंक्शन से से मुंबई छत्रपति शिवाजी टर्मिनल रेलवे स्टेशन की कुल दूरी 1362 किलोमीटर है। देश के व्यस्तम रूटों में यह रेलमार्ग शुमार है। अभी इस रूट पर इटारसी-मुंबई रेलखंड पर ही इलेक्ट्रिक इंजन लगी ट्रेनों का संचालन हो रहा है। इस वजह से इलाहाबाद, पटना, गुवाहाटी, दरभंगा, वाराणसी, हावड़ा, रांची  से मुंबई जाने वाली तमाम ट्रेनें जंक्शन एवं छिवकी से इटारसी तक डीजल इंजन से ही चलती है। इटारसी में डीजल की जगह इलेक्ट्रिक इंजन लगाया जाता है।  


विद्युतीकरण पूरा  होने के बाग  संबंधित रूट पर चलने वाली ट्रेनों की जहां एक ओर स्पीड बढ़ेगी तो वहीं दूसरी ओर मुंबई पहुंचने में ट्रेनों के समय में एक से दो घंटे की बचत भी होगी।

यह भी पढ़े- मुंबई के कई बीच दो दिन के लिए बंद

संबंधित विषय