Advertisement

चार लेन मुंबई-गोवा राजमार्ग का काम इस दिसंबर तक पूरा होगा-नितिन गड़करी

इस खंड को 11 पैकेजों में विभाजित किया गया था और कुछ पैकेजों में देरी के कारण भूमि अधिग्रहण, उपयोगिता शिफ्टिंग, वन मंजूरी और रियायतकर्ता / अनुबंधों द्वारा पुनर्वितरण के अपर्याप्त जुटाने जैसे मुद्दों के कारण देरी हुई।

चार लेन मुंबई-गोवा राजमार्ग का काम इस दिसंबर तक पूरा होगा-नितिन गड़करी
SHARES
Advertisement

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी(Nitin gadakari)  ने सोमवार को राज्यसभा(rajysabha) को आश्वासन दिया कि मुंबई-गोवा राजमार्ग (NH-17) के 438 किलोमीटर लंबे पनवेल-जराप खंड के चार लेन को इस साल दिसंबर तक पूरा करने का लक्ष्य है। इस खंड को 11 पैकेजों में विभाजित किया गया था और कुछ पैकेजों में देरी के कारण भूमि अधिग्रहण, उपयोगिता शिफ्टिंगवन मंजूरी और रियायतकर्ता / अनुबंधों द्वारा पुनर्वितरण के अपर्याप्त जुटाने जैसे मुद्दों के कारण देरी हुई।

30 सड़क निर्माण परियोजना
BJP
सांसद नारायण राणे(narayan rane) के लिखित जवाब में, मंत्री ने कहा कि यह कोंकण में भारतमाला परियोजना(bharatmala) का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि कोंकण क्षेत्र में भारतमाला की एकमात्र अन्य परियोजना एनएच -3 की 21 किलोमीटर लंबी वाडपे-ठाणे की 6/8 लेन हैजिसे जुलाई 2021 में पूरा करने का लक्ष्य है। राणे के एक अन्य सवाल के जवाब में, मंत्री ने कहा कि कोंकण(kokan) क्षेत्र की 30 सड़क निर्माण परियोजनाओं में से पांच अपने निर्धारित समय के अनुसार चल रही हैं जबकि 25 अन्य देरी से चल रही हैं। इनकी कुल लंबाई 938.32 किमी है।पांच अन्य कोंकण परियोजनाएं हैं जहां काम अभी तक शुरू नहीं हुआ हैवर्तमान में निविदा चरण में है।

12 घंटे में मुंबई से दिल्ली

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी(nitin gadakari) ने कहा है कि दिल्ली से मुंबई अपनी कार से ड्राइव करके 12 घंटे में पहुंचा जा सकेगा। तीन साल में दिल्ली-मुबई एक्सप्रेसवे(delhi mumbai expressway) प्रोजेक्ट तैयार हो जाएगा। इन योजनाओं की लागत 3.10 लाख करोड़ रुपए है।50 किलोमीटर के अंतराल पर पेट्रोल पंप, रेस्तरां की व्यवस्था के साथ ही सोलर प्लांट(solar plant) व रेनहार्वेस्टिंग सिस्टम भी लगाए जाएंगे। इसके साथ ही एक्सप्रेसवे के किनारे शहर, इंडडस्ट्रियल एरिया व ट्रांसपोर्ट नगर भी बसाया जाएगा।  

एक्सप्रेसवे के 40 फीसदी काम का आवंटन हो चुका है और बाकी 50 फीसदी के लिए निविदा की प्रक्रिया चल रही है। दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के लिए जमीन अधिग्रहण के मामले में 90 फीसदी तक काम पूरा हो चुका है। 

यह भी पढ़े- अब मोबाइल से कर सकेंगे पानी के मीटर की रीडिंग

संबंधित विषय
Advertisement