Advertisement

अरे हुजूर! 'चमार' गाली नहीं ब्रांड है ब्रांड

बढ़ता पूंजीवाद और घर तक बाजारों की पहुंच के बीच 'चमार' कोई गाली नहीं अपितु एक ब्रांड बन गया है। जी हाँ, 'चमार' ब्रांड अपने उत्पादों के कारण अब घर-घर छाने की तैयारी में है।

अरे हुजूर! 'चमार' गाली नहीं ब्रांड है ब्रांड
SHARES
Advertisement

तीन अक्षरों का शब्द 'चमार' भले ही एक गाली सूचक है लेकिन इस शब्द ने मुंबई के बाजारों में एक पहचान कायम कर ली है। बढ़ता पूंजीवाद और घर तक बाजारों की पहुंच के बीच 'चमार' कोई गाली नहीं अपितु एक ब्रांड बन गया है। जी हाँ, 'चमार' ब्रांड अपने उत्पादों के कारण अब घर-घर छाने की तैयारी में है।


बनते हैं फैशनेबल हैंडबैग्स

मुंबई में रहने वाले आर्टिस्ट सुधीर राजभर ने 'चमार स्टूडियो' बनाया है, जहां फैशनेबल हैंडबैग्स बनाये जाते हैं। मुंबई के धारावी इलाके में एक छोटी से घर में बना है चमार स्टूडियो या कहें कारखाना, जहां कुछ लोग मिल कर काम करते हैं। इस यूनिक आईडिया को जन्म देने वाले सुधीर राजभर ही हैं, जो खुद पिछड़ी जाति से आते हैं।


गाली नहीं गौरव का विषय

बचपन से गाली के रूप में 'चमार' शब्द सुनने वाले राजभर ने इस गाली को अब गौरव का विषय बनाया है। करीब 6 महीने पहले इस स्टूडियो को कमर्शली लॉन्च करने वाले राजभर कहते हैं कि इस स्टूडियो में काम करने वाले अधिकतर दलित और मुस्लिम हैं, जो चमड़े का काम करते हैं। वे कहते हैं कि इन डिजाइनर प्रॉडक्ट्स की कीमत 1500 रूपये से लेकर 6000 तक है।  

राजभर आगे बताते हैं कि शुरू में एक कपड़े के बैग को बनाया जिसमें विभिन्न भषाओं में ‘चमार’ शब्द लिखा गया था। वे बताते हैं कि मैं यह शब्द लोगों के बीच लाना चाहता था और उन्हें बताना चाहता था कि यह सिर्फ एक पेशा है। 


ऑनलाइन प्लेटफॉर्म भी उपलब्ध

अपने प्रोडक्ट को ली मिल स्टोर सहित कई बड़े शोरूम में बेचने वाले राजभर अब लोगों के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म भी उपलब्ध कराया है, इसलिए वो  www.chamarstudio.com के ज़रिए ऑनलाइन ही अपना सामान बेच रहे हैं। इनके साथ इनके और भी सहयोगी काम करते हैं जिनके साथ यह अपने प्रोडक्ट की डिजाइन सहित अन्य बातें तय करते हैं।  


मिटानी होगी हिचक

अपने काम का क्रेडिट हमेशा अपने सहयोगियों को देने वाले राजभर का कहना है कि मैं चाहता हूं कि ‘चमार स्टूडियो' के साथ, लोग चमार शब्द को अच्छी चीज़ से जोड़कर देखें। इसके लिए सबसे पहले इसे जन-जन तक पहुंचना होगा ताकि इसके प्रति लोगों की हिचक कम हो।

संबंधित विषय
Advertisement