अनुराग कश्यप 11 साल की उम्र में हुए यौन उत्पीड़न का शिकार, लोगों से खुलकर सामने आने को कहा

#MeToo कैंपेन का जिक्र करते हुए अनुराग कश्यप ने बताया है कि उनके साथ भी 11 साल की उम्र में यौन उत्पीड़न हुआ है। साथ ही लोगों से इस मुद्दे पर खुलकर सामने आने की अपील की है।

  • अनुराग कश्यप 11 साल की उम्र में हुए यौन उत्पीड़न का शिकार, लोगों से खुलकर सामने आने को कहा
  • अनुराग कश्यप 11 साल की उम्र में हुए यौन उत्पीड़न का शिकार, लोगों से खुलकर सामने आने को कहा
SHARE

जिंदगी को फिल्मों में जड़ से पिरोने वाले बॉलीवुड फिल्ममेकर अनुराग कश्यप ने इंडस्ट्री में यौन उत्पीड़न को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि वक्त है कि यौन उत्पीड़न से पीड़ित लोग खुलकर सामने आएं। अगर वे खुद इस तरह की घटनाओं का विरोध नहीं करेंगे तब तक ये अभियान कामयाब नहीं हो पाएगा और नाही अन्य कोई व्यक्ति पीड़ित के पक्ष में खड़ा हो पाएगा।

आपको बता दें #MeToo  कैंपेन के जरिए पिछले साल अक्टूबर में मीडिया के बेताज बादशाह हार्वे वाइंस्टीन के खिलाफ आरोपों की झड़ी लग गई थी। उन पर रेप समेत यौन उत्पीड़न के अनेक आरोप लगे। वहीं बॉलीवुड में गिने चुने नाम ही सामने आए। #MeToo  कैंपेन का जिक्र करते हुए अनुराग कश्यप ने बताया कि उनके साथ महज 11 साल की उम्र में यौन उत्पीड़न हुआ था। उन्होंने कहा कि पहली बार 19 साल की उम्र में मैंने आवाज उठाई थी। मैंने उस घटना के बारे में इसलिए बोला था, क्योंकि मैं इससे गुजरा था। मैंने आमिर खान के शो में भी इस बारे में बोला था। मैं चाहता हूं कि ज्यादा से ज्यादा लोग सामने आएं और अपनी कहानी शेयर करें। ताकि दूसरे लोग यौन उत्पीड़न के दर्द से बच सकें। 

अनुराग कश्यप ने ‘देवडी’, ‘गुलाल’, ‘गैग्स ऑफ वासेयपुर’  और ‘मुक्काबाज’  जैसी फिल्में बनाई हैं। वे अपनी फिल्मों में जीवन को बहुत ही बारीकी और करीब से दिखाने की कोशिश करते हैं।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें