Advertisement

Love Aaj Kal Review: उलझन भरी कहानी कार्तिक-सारा के लिए बनी मुसीबत

कार्तिक आर्यन रघु के किरदार में क्यूट लगे हैं। कुछ-कुछ सीन्स में वे लुभाते हुए नजर आए हैं। पर वीर के किरदार में उन्हें ज्यादा कुछ करने का मौका ही नहीं मिला है। सारा अली खान अपने किरदार से काफी पीछे छूट गई हैं।

Love Aaj Kal Review: उलझन भरी कहानी कार्तिक-सारा के लिए बनी मुसीबत
SHARES

मशहूर डायरेक्टर इम्तियाज अली वेलेंटाइन डे के मौके पर 2009 की हिट फिल्म 'लव आज कल' (Love Aaj Kal) का सीक्वल लेकर आ गए हैं। इस फिल्म में आपको उन्होंने जुई (सारा अली खान) और वीर (कार्तिक आर्यन) की कन्फ्यूजन से भरी लव स्टोरी पेश की है। जिसे देखकर आपका बना बना वेलेंटाइन डे भी खराब हो सकता है। कुछ जगह पर आपको सुकून की सांस मिलेगी की अगले पल ही उलझन शुरु हो जाएगी।
जुई (Sara Ali Khan) और वीर (Kartik Aaryan) की मुलाकात एक क्लब में होती है। जुई एक कैरियर ओरिएंटेड 22 साल की लड़की है, जो किसी सीरियस रिलेशनशिप में नहीं फसना चाहती है। क्योंकि उसे लगता है कि इससे उसका करियर खराब हो जाएगा। पर हुक अप और पार्टी करने में वह भरोसा करती है। जुई वीर को सेक्स के लिए अप्रोच करती है, पर वीर जुई को देखकर प्यार में पड़ जाता है। वह जुई को स्पेशल मानता है, उसका कहना है कि सेक्स तो किसी भी लड़की के साथ हो सकता है पर तुम मेरे लिए खास हो। यही बात जुई को नागवार होती है। फिल्म में रणदीप हुड्डा (Randeep Hooda) भी हैं, जो जुई को अपनी लव स्टोरी सुनाते हैं। रणदीप की जवानी का किरदार रघु को कार्तिक आर्यन ने प्ले किया है। साथ ही उनकी गर्लफ्रैंड लीना का किरदार आरुषि शर्मा ने निभाया है, आरुषि ने इस फिल्म से बॉलीवुड में डेब्यू किया है। रघु-लीना और वीर-जुई की कहानी एक साथ चलती है। साथ ही रघु-लीना की कहानी जुई को प्यार के लिए एक नई दिशा देती है। पर फिल्म की कहानी को मैंने आपको जितनी आसान भाषा में समझाने की कोशिश की है दरअसल वह उतनी आसान नहीं है। 

कार्तिक आर्यन रघु के किरदार में क्यूट लगे हैं। कुछ-कुछ सीन्स में वे लुभाते हुए नजर आए हैं। पर वीर के किरदार में उन्हें ज्यादा कुछ करने का मौका ही नहीं मिला है। सारा अली खान अपने किरदार से काफी पीछे छूट गई हैं। 'केदारनाथ' में उनकी एक्टिंग ठीक-ठाक थी। पर इस फिल्म में उनकी ओवर एक्टिंग आपको बहुत ज्यादा इरिटेट करेगी। आरुषि शर्मा ने अपने किरदार को बारीकी से पकड़ा है। रणदीप हुड्डा स्क्रीन पर काफी अच्छे लगे हैं, पर उनके पास कुछ करने के लिए ही नहीं था। 

इम्तियाज अली ने 'जब वी मेट' और 'रॉकस्टार' जैसे फिल्में बनाई हैं, जिसके चलते दर्शकों को उनकी फिल्मों से बहुत अधिक उम्मीदें रहती हैं। वे कॉम्पलिकेटेड स्टोरी को स्क्रीन पर बेहतरीन तरीके दिखाने के लिए जाने जाते हैं। पर 'लव आज कल' में वह करने से वे पूरी तरह से फेल रहे हैं। एक साथ कल औैर आज में कहानी चलती है, जो बहुत ज्यादा उलझन पैदा करती है। पर अगर आप कार्तिक के बहुत बड़े फैंस हैं तो मैं आपको फिल्म देखने से नहीं रोक पाउंगा। हम इस फिल्म को 5 में से 1.5 स्टार देते हैं।   

संबंधित विषय
Advertisement