यौन शोषण के मुद्दे पर कंगना रनौत और अंकिता लोखंडे आईं सामने

कंगना के साथ फिल्म ‘मणिकर्णिका’ से फिल्मों में डेब्यू कर रहीं अंकिता लोखंडे ने यौन शोषण की घटनाओं पर चिंता जताते हुए इंस्टाग्राम पर एक लंबा नोट शेयर किया है। अंकिता लिखती हैं कि पहले सुबह उठकर वो अपनी दिनचर्या प्लान करती थीं। अपने घरवालों को विश करती थीं। अखबार पढ़ती थीं। मगर पिछले कुछ अर्से से मैं अखबार पढ़ने या सोशल मीडिया पर जाने से डरने लगी हूं।

SHARE

बॉलीवुड एक्ट्रेस तनुश्री दत्ता ने जबसे नाना पाटेकर पर यौन शोषण के आरोप लगाए हैं, तबसे मानों इंडस्ट्री में आरोपों की बाढ़ सी आ गई है। कोई सितारा तनुश्री के समर्थन में उतर रहा है, कोई कुछ भी कहने से बच रहा है, तो वहीं कोई खुद के साथ हुई यौन शोषण की घटनाओं को सोशल मीडिया पर शेयर कर रहा है।

हाल ही में एक महिला ने ‘क्वीन’ फिल्म के डायरेक्टर विकास बहल पर यौन शोषण के बेहद गंभीर आरोप लगाए हैं। बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत और अंकिता लोखंडे ने महिला का समर्थन किया है और अपने साथ घटी यौन शोषण की घटना को  भी शेयर किया है।

कंगना रनौत ने कहा, मैं इस पीड़ित पर पूरी तरह से भरोसा करती हूं। विकास ने साल 2014 में शादी की थी। वहीं, जब हम ‘क्वीन’ फिल्म  की शूटिंग कर रहे थे, उस वक्त भी विकास शादी-शुदा थे। इसके बावजूद वह रोजाना नए पार्टनर के साथ शारीरिक संबंध बनाने का जिक्र करते थे।  मैं लोगों को जज नही करती और नाही उनकी शादी को जज करती हूं। लेकिन जब एक आदत बीमारी बन जाए तो आप इस तरह की बात कह सकते है।

कंगना ने आगे कहा, विकास जब भी कहीं मिलते वो अजीब तरीके से मुझे गले लगाते, मेरे बालों को सूंघते और कहते कि उन्हें इस खुशबू से प्यार है। मुझे उनकी हरकतों से लगता था कि उनके साथ कुछ तो गड़बड़ है। विकास उन दिनों मेरे पास हरियाणा की गोल्ड मेडलिस्ट पर बन रही फिल्म की स्क्रिप्ट लेकर आए थे। लेकिन जब मैंने इस पीड़ित को सपोर्ट किया तो उसके बाद विकास ने मुझसे बात करना बंद कर दिया।

वहीं कंगना के साथ फिल्म ‘मणिकर्णिका’ से फिल्मों में डेब्यू कर रहीं अंकिता लोखंडे ने यौन शोषण की घटनाओं पर चिंता जताते हुए इंस्टाग्राम पर एक लंबा नोट शेयर किया है। अंकिता लिखती हैं कि पहले सुबह उठकर वो अपनी दिनचर्या प्लान करती थीं। अपने घरवालों को विश करती थीं। अखबार पढ़ती थीं। मगर पिछले कुछ अर्से से मैं अखबार पढ़ने या सोशल मीडिया पर जाने से डरने लगी हूं। पिछले कुछ दिन हम सब इंडस्ट्री वालों के लिए एक सबक हैं कि आंख और कान बंद करने से सच्चाई नहीं बदल जाएगी।

अंकिता ने आगे लिखा, महिला को यौन उत्पीड़न का शिकार होने के बावजूद खुद को जस्टिफाई करना पड़ता है। एक के बाद एक लड़की उत्पीड़न का शिकार होती रहती है। हम इसके विरोध में खड़े होते हैं। बातें करते हैं, न्याय दिलवाने की कोशिश करते हैं। मगर बार-बार यह क्यों हो रहा है? अंकिता ने इस दर्द से गुजरने वाली सभी महिलाओं के लिए अफसोस जाहिर करते हुए गुजारिश की है कि आप बोलिए। चुप मत रहिए। हम सब आपके साथ हैं। अगर किसी को शर्मिंदा होना है तो वह आप नहीं शोषण करने वाला शर्मिंदा होना चाहिए।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें