Advertisement

दिशा सालियन सुसाइड केस CBI को सौंपे जाने से कोर्ट का इनकार

कोर्ट ने इस याचिका को खारिज करते हुए कहा कि अगर किसी के पास मामले के आधार पर कोई सबूत है, तो उन्हें इसे पुलिस को सौंप देना चाहिए।

दिशा सालियन सुसाइड केस CBI को सौंपे जाने से कोर्ट का इनकार
SHARES

मुंबई उच्च न्यायालय (bombay high court) ने दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (sushant singh rajput) की पूर्व मैनेजर दिशा सलियन की आत्महत्या की जांच सीबीआई (cbi) को सौंपने से इनकार कर दिया है। इस बारे में जो याचिका कोर्ट में दाखिल की गई थी उसे अदालत ने खारिज कर दिया है।

दिशा की आत्महत्या करने के कुछ दिनों बाद सुशांत की भी मौत हो गई थी। चूंकि सुशांत की आत्महत्या काफी संदिग्ध परिस्थितियो में की गई थी। देश के कई हिस्सों में इस सुसाइड को लेकर सवाल उठाए गए। कोई भी इसे सुसाइड मानने को तैयार नहीं था, जिसके बाद तमामा हो हल्ला के बीच

दिल्ली में एक वकील पुनीत डंडा ने एक याचिका दायर की और दिशा सालियान और सुशांत राजपूत के सुसाइड के बीच कोई लिंक होने का दावा किया और अपनी याचिका के माध्यम से इस केस को CBI को सौंपे जाने की मांग की।

पुनीत डंडा ने मुंबई उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर मामले की सीबीआई जांच की मांग की थी। कोर्ट ने इस याचिका को खारिज करते हुए कहा कि अगर किसी के पास मामले के आधार पर कोई सबूत है, तो उन्हें इसे पुलिस को सौंप देना चाहिए।

आपको बता दें कि दिशा सालियान (Disha Salian) ने 8 जून को मुंबई की एक इमारत की 14 वीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या (suicide) कर ली। लेकिन 11 जून को दिशा के डेडबॉडी की ऑटोप्सी किया गया। इसलिए इस मामले में कई संदेह सामने आ रहे हैं।

इस मामले में जो बात सामने आई, उसके मुताबिक उस रात एक पार्टी आयोजित की गई थी, जिसमें दिशा, उनके भावी पति रोहन और दोस्तों हिमांशु, नील और दीप भी थे।

बताया जाता जी कि पार्टी में हर कोई नशे में था। पीने के बाद, दिशा बहुत भावुक हो गई और कह रही कि किसी ने उसकी परवाह नहीं की। बाद में उस रात उसने यूके में एक दोस्त से फोन पर बाय की और वह फोन पर रो रही थी। दिशा ने फिर दूसरे कमरे में जाकर दरवाजा अंदर से बंद कर लिया। काफी देर तक दिशा के बाहर न आने पर उसके दोस्तों ने दरवाजा तोड़ दिया। लेकिन कमरे में कोई नहीं दिखा। दिशा के दोस्त हिमांशु और दीप ने खिड़की से नीचे देखा तो सभी चौंक गए, नीचे दिशा की बॉडी थी। सभी लोग नीचे की ओर भागे लेकिन तब तक दिशा मर चुकी थी।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement