कंपनियां बेचकर अनिल अंबानी उतारेंगे कर्ज

रेटिंग एजेंसियों केयर (CARE) और इकरा (ICRA) ने रिलायंस कॉमर्श‍ियल फाइनेंस (RCF) और रिलायंस होम फाइनेंस (RHF) की रेटिंग घटा दी है

SHARE

कर्ज के बोझ तले अनिल अंबानी ने अब अपनी कंपनियों को बेचकर कर्ज उतारने का फैसला किया है।  अनिल अंबानी ने  अपनी दो और कंपनियों को बेचने का फैसला किया है। अनिल अंबानी इन दोनों कंपनियों को बेचकर अपना कर्ज चुकाएंगे।   अनिल अंबानी अपनी  अपनी दो कंपनियों के लिए निवेशकों की तलाश में हैं।

दो और कंपनियों पर संकट

अनिल अंबानी की दो और कंपनियों की हालत खराब है।  रिलायंस होम फाइनेंस और रिलायंस कमर्शियल फाइनेंस लिमिटेड की स्थिती कुछ खास नहीं है।  मिली जानकारी के मुताबिक   रिलायंस कैपिटल अब इन दोनों कंपनियों के लिए निवेशको की तलाश कर रही है।  इन दोनों कंपनियों की रेटिंग को हालही में घटा दिया गया था।  रेटिंग एजेंसियों केयर (CARE) और इकरा (ICRA) ने रिलायंस कॉमर्श‍ियल फाइनेंस (RCF) और रिलायंस होम फाइनेंस (RHF) की रेटिंग घटा दी जिसके बाद से इन कंपनियों की हातल और भी खराब होती जा रही है।  

आरएचएफ में बड़ी हिस्सेदारी खरीदने के लिए ब्लैकस्टोन, कार्लिले, ब्रूकफील्ड और पीरामल समूह से बातचीत चल रही है। आरएचएफएल में रिलायंस कैपिटल की 51 फीसदी हिस्सेदारी है। वर्तमान में, कंपनी प्रशासन विदेशी और विदेशी निवेशकों के साथ चर्चा कर रहा है। रिलायंस कैपिटल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमित बाफना ने कहा कि यह प्रक्रिया अगले दो से तीन महीनों में पूरी हो जाएगी ।  उन्होंने कहा कि कंपनी की क्रेडिट रेटिंग में भी सुधार होगा। फिलहाल  दोनों कंपनियों पर 17,000 करोड़ रुपये और 16,000 करोड़ रुपये का कर्ज है।

यह भी पढ़े- विश्व मजदुर दिवस: क्या सही में मजदूरों को उनका हक मिला है?

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें