Advertisement

मुसीबत की टोकरी


SHARES

माहिम - नोटबंदी से अगर सबसे ज्यादा कोई बेहाल है तो वो है छोटे- मोटे काम करनेवाले कारीगर। ये कारीगर दिन भर की मेहनत के बाद थोड़ा बहुत कमाकर अपने परिवार का पालन पोषण करते है। लेकिन नोटबंदी के 49 दिनों बाद भी इन्हें मुश्कीलें कम होती नजर नही आ रही है। इन कारीगरों के हाथों से बनी टोकरी नासिक, गोवा और पूना जैसे शहरों में भेजी जाती है। बावजूद इसके ये कारीगर अपनी जिविका चलाने के लिए जूंझ रहे है।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
Advertisement