दोहरी मार: ATM से पैसे निकालना होगा महंगा

यदि कोई ग्राहक ATM से 5 से अधिक ट्रांजैक्शन करता है तो उसे हर ट्रांजैक्शन पर 20 रुपए प्रति ट्रांजैक्शन खर्च करने होंगे।

SHARE

एक तो कई राज्य वैसे ही नोटों की किल्लत से जूझ रहे हैं ऊपर से बैंकों ने ATM ट्रांजैक्शन पर चार्ज बढ़ाने का निर्णय किया है. बैंकों के इस कदम से ग्राहकों को एक बड़ा झटका लग सकता है. बताया जाता है कि आने वाले समय में यदि कोई ग्राहक ATM से  5 से अधिक ट्रांजैक्शन करता है तो उसे हर ट्रांजैक्शन पर 20 रुपए प्रति ट्रांजैक्शन खर्च करने होंगे। रिजर्व बैंक के आदेश से सभी बैंक जुलाई से इस नियम को लागू करेंगे। बैंकों के खर्चे में वृद्धि होने के कारण इस कदम को उठाया गया है.

 

एटीएम ऑपरेटर्स  रहा नुकसान 
अभी इस सभी बैंक एटीएम से कैश ट्रांजैक्शन करने पर 15 रुपए और नॉन कैश ट्रांजैक्शन करने पर  5 रुपए शुल्क लेते हैं। कन्फेडरेशन ऑफ एटीएम इंडस्ट्री (CATMI) ने मांग की है कि एटीएम ट्रांजैक्शन पर कम से कम 3 रुपये चार्ज को बढ़ा कर 5 रुपए करना चाहिए ताकि एटीएम ऑपरेटर्स अपनी लागत तो निकाल सकें।

ट्रांजैक्शन नियम हुए कड़े 
दरअसल रिजर्व बैंक ने एटीएम ट्रांजैक्शन के लिए काफी कड़े नियम बना दिए हैं जिसके बाद से एटीएम ऑपरेटर्स ट्रांजैक्शन चार्ज बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। आरबीआई के इस नए नियमों के अनुसार कैश मैनेजमेंट कंपनियों के पास में कम से कम 300 कैश वैन, प्रत्येक कैश वैन में एक ड्राइवर, दो कस्टोडियन और दो बंदूकधारी गार्ड होने चाहिए ताकि कैश की सुरक्षा हो सके। इसके अलावा कैश वैन में जीपीएस, लाइव मॉनेटरिंग के साथ भू मैपिंग और नजदीकी पुलिस स्टेशन का पता होना चाहिए ताकि आपताकाल में मदद ली जा सके। इसके साथ ही एटीएम का ऑपरेशन केवल वही व्यक्ति करें जिसके पास ट्रेनिंग सर्टिफिकेट हो। आरबीआई ने बैंकों से कहा है कि वो नए नियमों को जुलाई तक लागू कर दें।  

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें