खुशखबरी...बैंकों की हड़ताल टली

बैंकों ने अपनी समस्याओं को लेकर वित्त सचिव के साथ एक बैठक किया, जिस पर आम सहमती बनने के बाद बैंक यूनियन ने इस हड़ताल को कैंसिल करने का फैसला किया।

SHARE

लोगों के लिए खुशखबरी है, बैंकों द्वारा घोषित हड़ताल को कैंसिल कर दिया गया है। इस हड़ताल से बैंक एक हफ्ते तक बंद रहते जिससे आम लोगों के आर्थिक लेन देन में परेशानी आ सकती थी। सरकार द्वारा अनेक राष्ट्रियकृत बैकों के विलय और अपनी कई मांगों को लेकर बैंक यूनियन ने हड़ताल की घोषणा की थी।

बैंकों ने अपनी समस्याओं को लेकर वित्त सचिव के साथ एक बैठक किया, जिस पर आम सहमती बनने के बाद बैंक यूनियन ने इस हड़ताल को कैंसिल करने का फैसला किया

बैंक यूनियन ने 26-27 और 30 सितंबर के बाद 1 अक्टूबर को हड़ताल पर जाने की घोषणा की थी, लेकिन बीच में शनिवार और रविवार के साथ साथ 2 अक्टूबर यानी गांधी जयंती की भी छुट्टी थी। इसके चलते बैंक एक हफ्ते लगातार बंद रहते। इस हड़ताल में ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कंफेडरेशन, ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन, इंडियन नेशनल बैंक ऑफिसर्स कांग्रेस, नेशनल ऑर्गनायजेशन ऑफ बैंक इन चार संगठनों ने शामिल होने की घोषणा की थी।  

बैंक यूनियन की मांग 

  1. बैंकों के प्रस्तावित विलय को वापस लिया जाए 
  2. चार्टर के मुताबिक पे रिवजिन किया जाए,
  3. सप्ताह में पांच दिन कार्यावधि की जाए,
  4. नेशनल पेंशन स्कीम को डिफाइन करें,
  5. ग्राहकों के सर्विस चार्ज को कम करें,
  6. सतर्कता से संबंधित मौजूदा प्रक्रियाओं में बाहरी एजेंसियों का हस्तक्षेप रोकने,
  7. सेवानिवृत्त कर्मचारियों से संबंधित मुद्दों को सुलझाने, 
  8. पर्याप्त भर्तियां करने, 
  9. एनपीएस को समाप्त करने

आपको बता दें कि सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र की दस राष्ट्रीयकृत बैंकों का विलय कर चार बड़े बैंक बनाने का निर्णय किया है जिसका विरोध ये राष्ट्रीयकृत बैंक कर रहे हैं।

पढ़ें: Bank Strike: बैंक संबंधित सभी काम जल्द से जल्द निपटा लें, होने वाली है हड़ताल

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें