फैशन स्ट्रीट पर नोटबंदी की मार


  • फैशन स्ट्रीट पर नोटबंदी की मार
SHARE

चर्चगेट - नोटबंदी के असर से मुंबई का जाना माना फैशन स्ट्रीट भी अछूता नहीं है। हमेशा ग्राहकों से गुलजार रहने वाला फैशन स्ट्रीट नोटबंदी के बाद से ही मंदी के दौर से गुजर रहा है। कैशलेस लेनदेन करने के लिए पीएम मोदी द्वारा काले धन पर किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के चलते 500 और हजार के नोट पर बैन लगा दी गयी थी, लेकिन फैशन स्ट्रीट के दुकानदार कैशलेस लेनदेन के मुद्दे पर अलग राय रखते हैं। दुकानदारों का कहना है कि हमारी दिन भर की बिक्री से जो पैसा आता है उसे हम रात को व्यापारियों को दे देते हैं ताकि अगले दिन और भी सामान मंगाया जा सके इससे हमारा रोज का व्यवहार तय होता है, तो ऐसे में हमें पेटीएम और स्वाइप मशीन क्यों चाहिए? तो वहीं कुछ दुकानदार इससे अलग राय रखते हैं उनका कहना है कि हम कैशलेस लेनदेन करने के लिए तैयार हैं लेकिन हमें मशीन देने की जिम्मेदारी सरकार को लेनी होगी। अब कैशलेस मुद्दे पर फैशन स्ट्रीट की मांग सरकार मानेगी? यह तो आनेवाले समय में ही पता चलेगा। लेकिन मंदी की मार से जूझ रही फैशन स्ट्रीट की 400 दुकानें क्या कैशलेस से क्या फिर से गुलजार हो पाएंगी?

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें