Advertisement
COVID-19 CASES IN MAHARASHTRA
Total:
58,76,087
Recovered:
56,08,753
Deaths:
1,03,748
LATEST COVID-19 INFORMATION  →

Active Cases
Cases in last 1 day
Mumbai
15,122
660
Maharashtra
1,60,693
12,207

सीरम इंस्टिट्यूट सबसे अधिक लाभ कमाने वाली सूची में पहले स्थान पर

लाइव मिंट के अनुसार, सीरम ने 5,446 करोड़ रुपये की बिक्री के बदले 2,251 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया है। इसका शुद्ध मार्जिन लाभ 41.3 प्रतिशत है।

सीरम इंस्टिट्यूट सबसे अधिक लाभ कमाने वाली सूची में पहले स्थान पर
SHARES

भारत (india) में कुल 418 भारतीय कंपनियों ने वर्ष 2019-20 में 5,000 करोड़ रुपये से अधिक का व्यापार किया है। जिसमें कोविशील्ड वैक्सीन (covishield) बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (serum institute of india) सबसे लाभ कमाने वाली कंपनियों में से एक है।

कॉर्पोरेट कंपनियों के व्यवसाय के बारे में जानकारी रखने वाली 'कैपिटललाइन' (capital line) ने इस संबंध में एक रिपोर्ट प्रस्तुत की है।

लाइव मिंट (live mint) के अनुसार, सीरम ने 5,446 करोड़ रुपये की बिक्री के बदले 2,251 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया है। इसका शुद्ध मार्जिन लाभ 41.3 प्रतिशत है।

फाइनेंसिंग कंपनियां (जैसे सिटी बैंक, मुथूट फाइनेंस) इस सूची में सबसे नीचे हैं। मोनोपोली ऑपरेशन (जैसे हिंदुस्तान जिंक और परमाणु ऊर्जा निगम) के क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियां भी इसमें शामिल हैं।

5,000 करोड़ रुपये के उद्योग वाली कंपनियों की सूची में 18 कंपनियां दवा क्षेत्र से संबंधित हैं। मैक्लियॉड्स फार्मास्युटिकल्स इस सूची में दूसरे स्थान पर है। इस कंपनी ने 28% लाभ अर्जित किया है।

सीरम कंपनी के लाभ के पीछे एक मुख्य कारण यह है कि, कंपनी भारत में कोरोना वैक्सीन (corona vaccine in india) का उत्पादन कर रही है। और वर्तमान समय में दुनिया भर में भारत टीकों की सबसे बड़ी जरूरत वाला देश है, और सीरम दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन उत्पादन करने वाली कंपनी है।

हॉर्स ब्रीडींग, निर्माण व्यवसाय, फाइनांस और हवाई क्षेत्र में सीरम की हिस्सेदारी वाली पूनावाला समूह ने भी निवेश किया है। साल 2008-09 और 2015-16 के बीच सीरम के राजस्व में 23 प्रतिशत की वृद्धि हुई जो सालाना 4,630 करोड़ रुपए तक पहुंच गया।

जबकि शुद्ध लाभ में भी 28 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई, जो सालाना ग्रोथ बढ़कर 12,191 करोड़ रुपये हो गई। हालांकि, 2015-16 और 2019-20 के बीच, कंपनी के राजस्व में चार प्रतिशत की गिरावट आई और शुद्ध लाभ में भी वृद्धि नहीं हुई।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें