PUBG पर बैन लगाने के लिए सीएम को पत्र लिखनेवाले 11 वर्षीय लड़के ने अब किया कोर्ट का रुख

11 वर्षीय लड़के को उसके पत्र का किसी ने भी रिप्लाइ नहीं दिया , जिसके बाद उसने कोर्ट की ओर रुख किया है

SHARE

बच्चों में बढ़ते PUBG के क्रेज को देखते हुए कुछ दिनों पहले एक 11 साल के छात्र में सीएम देवेंद्र फड़णवीस सहीत कई मंत्रियों को इस पर बैन लगाने के लिए पत्र लिखा था। हालांकी मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, राज्य के शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े और केंद्रीय प्रसारण और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद और अन्य लोगों से इसका रिप्लाइ ना मिलने के कारण अब 11 साल के छात्र ने कोर्ट का रुख अपनाया है।  

मंत्रियों से नहीं मिला रिप्लाई

अहद निजाम नाम से पहचाना जाने वाला यह लड़का आर्य विद्या मंदिर का छात्र है। अहद ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस सहीत सात मंत्रियों को खत लिखा था। अहद नियाज का कहना है कि इसी वजह से उसने सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े को पत्र लिखकर तत्काल इस गेम पर प्रतिबंध लगाने का अनुरोध किया है। 

अहद ने दलील दी है कि ये गेम बच्चों को गुस्सैल और हिंसक बना रहा है. साथ ही जनहित याचिका में कहा है कि हाईकोर्ट महाराष्ट्र सरकार को आदेश दे कि इस गेम पर तुरंत बैन लगाया जाए

क्या है PUBG गेम?
पबजी मोबाइल पर खेला जाने वाला एक पॉपुलर गेम है. इसके चलते बच्‍चे पढ़ाई से भटक रहे हैं। कुछ दिन पहले ही खबर आई थी कि महाराष्‍ट्र सरकार ने गेम पर रोक लगा दी है। हालांकि वह सिर्फ अफवाह निकली, लेकिन गुजरात सरकार ने बाकायदा नोटिस जारी कर इस गेम पर रोक लगाई है।

यह भी पढ़ेशिवसेना सांसद ने की मेट्रो स्टेशन को शिवसेना भवन नाम देने की माग

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें