चर्चगेट-विरार के बीच पटरियों से साफ किये गया 16,000 किलो कचरा

यह सुनिश्चित करने के लिए बारिश के दौरान किसी भी तरह का जलभराव ना हो इसके लिए लगभग 30,000 लोगों ने पटरियों पर कचरो को साफ किया।

SHARE

मुंबई में इस साल 4 सितंबर को चौथी बार मॉनसून की लगातार बारिश हुई।  भारी बारिश के कारण सड़को पर लंबा ट्रैफिक जाम लग गया और सड़कों और रेलवे में जल जमाव हो गया। हजारों यात्री ट्रेनों और उनके वाहनों में फंसे हुए थे।  मिठी नदी भी अपने उफान पर थी।  

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, मुंबई में  गुरुवार, 19 सितंबर से शनिवार, 21 सितंबर तक भारी होने की संभावना है। यह सुनिश्चित करने के लिए बारिश के दौरान किसी भी तरह का जलभराव ना हो इसके लिए  लगभग 30,000 लोगों ने पटरियों पर कचरो को साफ किया।  चर्चगेट-विरार के बीच सफाई अभियान के एक हिस्से के रूप में पटरियों को साफ किया गया।

इस सफाई अभियान में, पश्चिमी रेलवे (WR) ने लगभग 16,000 किलोग्राम कचरे को निकाला, जिसमें से अधिकांश कचरे में प्लास्टिक शामिल था। विशेष रूप से, रेलवे अधिकारियों ने कहा कि दादर-बांद्रा के बीच  2,000 किलोग्राम से अधिक कचरा एकत्र किया गया था और मुंबई सेंट्रल, नालसोपारा और विरार से 3,000 किलोग्राम से अधिक कचरा एकत्र किया गया था।

यह भी पढ़े- सोलर के प्रति जागरुक करने की कोशिश, रेलवे स्टेशनों पर फ्री मोबाइल चार्जिंग सुविधा!

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें