Advertisement
COVID-19 CASES IN MAHARASHTRA
Total:
54,05,068
Recovered:
48,74,582
Deaths:
82,486
LATEST COVID-19 INFORMATION  →

Active Cases
Cases in last 1 day
Mumbai
34,288
1,240
Maharashtra
4,45,495
26,616

मुंबई में कुल 443 खतरनाक इमारतें, रास्ता निकालना पड़ेगा- महापौर

पिछले हफ्ते ही मुंबई के फोर्ट इलाके में 'भानुशाली' इमारत का एक हिस्सा गिरने से 10 लोगों की मौत हो गई थी। साथ ही मलबे के नीचे से 20 से ज्यादा लोगों को निकाला गया था, जो घायल हो गए थे।

मुंबई में कुल 443 खतरनाक इमारतें, रास्ता निकालना पड़ेगा- महापौर
SHARES

मुंबई की महापौर किशोरी पेडणेकर (mumbai mayor kishori pednekar) ने कहा है कि, यह चौंकाने वाली बात है कि मुंबई में 443 अति खतरनाक इमारतें ( dangerous building in mumbai)हैं। इन इमारतों के लिए जल्द से जल्द एक समाधान खोजने की आवश्यकता है।

मुंबई की सबसे खतरनाक इमारतों में, घाटकोपर, मुलुंड और बांद्रा वेस्ट में सबसे खतरनाक कुल 156 इमारतें हैं।  मुंबई शहर और उपनगरों में बारिश से पहले सभी निजी और BMC की इमारतों का सर्वेक्षण किया जाता है। इसके बाद खतरनाक इमारतों की संख्या घोषित की जाती है। पिछले साल की तुलना में इस साल कम खतरनाक इमारतें घोषित की गई हैं। दो साल पहले, मुंबई में 619 अति खतरनाक वाली इमारतें घोषित की गई थीं जबकि पिछले साल यह संख्या 499 थी।  इनमें से 50 से अधिक इमारतों को ध्वस्त कर दिया गया है। अब उनका पुनर्विकास किया जाएगा।

यह भी पढ़े'लालबाग के राजा के बाद शिवाजी पार्क का गणेश उत्सव रद्द

मुंबई उपनगर के संरक्षक मंत्री आदित्य ठाकरे (aaditya thackeray) के आदेश के अनुसार, मेयर किशोरी पेडनेकर (kishori peenekar) ने सोमवार 20 जुलाई को मुंबई शहर और उपनगरों में खतरनाक इमारतों की स्थिति का पता लगाने के लिए म्हाडा बिल्डिंग रिपेयरिंग बोर्ड के अध्यक्ष विनोद घोषालकर, नगर निगम और म्हाडा (mhada) के अधिकारियों के साथ बैठक की। फिर उन्होंने मीडिया से बातचीत की।

इसके बाद किशोरी पेडनेकर ने कहा कि, मुंबई में C-1 श्रेणी की 443 उच्च जोखिम वाली इमारतें हैं। इनमें से 56 BMC की हैं, तो 27 सरकारी भवन हैं जबकि 360 निजी भवन हैं। बैठक में इन सभी भवनों की समीक्षा की गई।  

उन्होंने कहा, इन इमारतों का मालिक कोई भी हो, इन्हें खाली कराने के लिए ठोस कदम उठाए जाने चाहिए, कोई भी जिम्मेदारी से बच नहीं सकता। इन सभी उच्च जोखिम वाली इमारतों में रहने वालों मिलना होगा, उनकी समस्याओं को समझ कर उन्हें हल करने का प्रयास किया जाएगा।

महापौर के मुताबिक, नागरिकों के अधिकारों को बरकरार रखते हुए इमारतों को कैसे ध्वस्त किया जा सकता है?  इसका विशेष ध्यान दिया जाएगा।

आपको बता दें कि, पिछले हफ्ते ही मुंबई के फोर्ट इलाके में 'भानुशाली' इमारत का एक हिस्सा गिरने से 10 लोगों की मौत हो गई थी। साथ ही मलबे के नीचे से 20 से ज्यादा लोगों को निकाला गया था, जो घायल हो गए थे। ये सभी अस्पताल में एडमिट हैं जहाँ इनका इलाज चल रहा है। साथ ही, मलाड के मालवणी में दो मंजिला मकान गिरने से दो लोगों की मौत हो गई।  घटना के मद्देनजर बैठक बुलाई गई थी।

यह भी पढ़ेVasai Virar Nalasopara Containment Zones List वसई विरार नालासोपारा कें कंटेंमेंट जोन की लिस्ट

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें