बीएमसी ने किया सर्वे, 97 फीसदी खाद्य सेंपल पाए गए अनहेल्दी

गर्मियों के आते ही लोग जब सार्वजनिक स्थानों पर अधिक जूस पीते हैं, तो बीएमसी ने विशेष रूप से दादर, चर्चगेट, सीएसएमटी, कुर्ला और मुंबई सेंट्रल जैसे बड़े स्टेशनों पर जूस स्टालों की जांच करके अतिरिक्त सावधानी बरती है।

SHARE

कुर्ला स्टेशन पर अनहेल्दी नींबू पानी का वीडियो वायरल होने के बाद, बीएमसी द्वारा 236 गन्ने के रस का निरीक्षण किया गया, जिसमें से 221 अनहेल्दी पाए गए। 15,645 किलोग्राम बर्फ सहित 10,000 लीटर रस और 3,838 किलोग्राम फल बीएमसी द्वारा नष्ट कर दिए गए हैं।

गर्मियों के आते ही लोग जब सार्वजनिक स्थानों पर अधिक जूस पीते हैं, तो बीएमसी ने विशेष रूप से दादर, चर्चगेट, सीएसएमटी, कुर्ला और मुंबई सेंट्रल जैसे बड़े स्टेशनों पर जूस स्टालों की जांच करके अतिरिक्त सावधानी बरती है।

परीक्षण किए गए नमूनों में से 97 फीसदी अनहेल्दी के रूप में वर्गीकृत किया गया था जिसमें ई-कॉइल जैसे बैक्टीरिया थे जो स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा हैं जिसके परिणामस्वरूप हेपेटाइटिस और अन्य संक्रमण जैसे रोग होते हैं।

91 फीसदी बर्फ के नमूनों को दूषित पानी का उपयोग करके बनाया गया था, जिसकी वजह से जूस भी अशुद्ध होता है। साथ ही गंदी चाकू का फल काटने के लिए इस्तेमाल किया गया। 195 स्टालों से परीक्षण किए गए सभी खाद्य नमूनों में से, केवल 45 उपभोग के लायक थे।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें