चूहे को मारने का भाव 18 रुपए

 Mumbai
चूहे को मारने का भाव 18 रुपए

शहर में कचरे और चूहों से फैलने वाली लेप्टोस्पायरोसिस बीमारी के प्रभाव से बचने के लिए चूहों की संख्या में कमी करने के लिए बीएमसी ने चूहों को मारने की एक मुहीम शुरू की है। इसके लिए बीएमसी ने हर मृत चूहों के पीछे 18 रुपए की दर तय किया है। मुंबई के 24 विभागों में मात्र 5 विभागों में चूहों के मारने का कार्य जारी है। लेकिन सूत्रों के अनुसार बीएमसी इस कार्य के लिए पूरी तरह तैयार नहीं है।

2015 में लेप्टोस्पायरोसिस बीमारी की चपेट में आकर करीब 12 लोगों की मौत हो गई थी। पिछले साल भी इस बीमारी ने 7 लोगों को लील लिया था। लेप्टोस्पायरोसिस के जीवाणु जानवरों, कुत्तों और चूहों के मलमूत्र से फैलते हैं। इसीलिए जानवरों, कुत्तों और चूहों की संख्या में रोकथाम लगाने के लिए सरकार यह कदम उठा रही है। मनपा के पास इस समय मात्र 30 लोग हैं जो चूहों को मारने का कार्य कर रहे हैं। इनको कर दिन 30 चूहों को मारने का लक्ष्य दिया गया है। लेकिन पूरे मुंबई के हिसाब से देखा जाए तो यह संख्या कुछ भी नहीं है।

पिछले साल मानसून में चूहों के मरने के लिए एक प्राइवेट कम्पनी को नियुक्त करने का निर्णय किया गया। इसके लिए हर चूहे के पीछे 10 रूपए का भाव तय किया गया था। मनपा द्वारा तीन बार निविदा निकालने पर भी इस कार्य के लिए कोई कंपनी तैयार नहीं हुई। आखिरकार दिसंबर में चूहों को मारने का भाव 10 से बढ़ाकर 18 कर दिया गया, बावजूद इसके इस काम में किसी कंपनी की कोई रूचि नहीं दिखी। मुंबई के ई,एस, जी दक्षिण, एल सहित यह काम मुंबई के 5 वॉर्ड में चालू है। कीटकनाशक विभाग के प्रमुख राजन नारिंग्रेकर ने बताया कि इस काम के लिए सहकारी स्वच्छ मुंबई प्रबोधक संस्था को नियुक्त किया गया है।


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दें) 





Loading Comments