सीएम उद्धव ठाकरे यूपी के नागरिकों के लिए भोजन और आवास की व्यवस्था करें, हम उठाएंगे खर्च- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

कर्फ्यू का एलान होने के बाद उत्तर प्रदेश और बिहार के रहनेवाले लोग राज्य से पलायन कर रहे है

सीएम उद्धव ठाकरे यूपी के नागरिकों के लिए भोजन और आवास की व्यवस्था करें, हम उठाएंगे खर्च- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
SHARES

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महाराष्ट्र और हरियाणा के मुख्यमंत्री से अपील की है कि वह अपने राज्यों में रहने वाले उत्तर प्रदेश के नागरिकों के लिए भोजन और आवास की व्यवस्था करें ,उत्तर प्रदेश के नागरिकों के भोजन आवास पर रहने का खर्च उत्तर प्रदेश सरकार वहन करेगी। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा कि उन्होंने 12 राज्यों के लिए प्रभारी भी नियुक्त किए हैं यह सभी प्रभारी अलग-अलग राज्यों में उत्तर प्रदेश के नागरिकों के रहने और खाने की व्यवस्था की देखरेख करेंगे और यह सभी 12 प्रभारी खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को रिपोर्ट करेंगे



आपको बता दें कि देश में कर्फ्यू लागू होने के बाद से ही बड़ी तादाद में उत्तर प्रदेश और बिहार में रहने वाले महाराष्ट्र और हरियाणा से कुछ कर रहे हैं बड़ी मात्रा में लोग महाराष्ट्र हरियाणा छोड़कर अपने अपने गांव उत्तर प्रदेश या बिहार जा रहे हैं। रेल के बंद होने के बावजूद भी अब लोगों ने सड़क के रास्ते ही अपने अपने गांव जाना शुरू कर दिया है आपको बता दें कि रेलवे ने कर्फ्यू लगने के बाद 14 अप्रैल तक देश के अंदर चलने वाली सभी यात्री रेलगाड़ियों को बंद कर दिया है। इसके साथ ही मुंबई की लोकल को भी आम लोगों के लिए बंद कर दिया है आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में 21 दिनों के का ऐलान किया था ।हालांकि इसके पहले ही राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र में कर्फ्यू का ऐलान कर दिया था ।

ऐलान होने के बाद ही राज्य के उत्तर प्रदेश और बिहार के रहने वाले लोगों ने यहां से पलायन शुरु कर दिया कर्फ्यू लगने के बाद बड़ी मात्रा में निजी कंपनियों को बंद करने या फिर घर से ही काम करने का आदेश जारी किया। जिसके कारण बिहारी पर काम करने वाले मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का सवाल खड़ा हो गया हालांकि केंद्र और राज्य सरकार ने मजदूरों के लिए व्यवस्था का प्रावधान किया है केंद्र सरकार ने एक लाख 70 हजार करोड़के पैकेज का ऐलान किया है वहीं राज्य सरकार ने कहा है कि राज्य में सभी मजदूरों के लिए पर्याप्त खाने की व्यवस्था है

संबंधित विषय